संसद भवन में रार- तकरार तक पहुँचा जब एटमी करार
तो होकरके जार -जार लगा रोने सरदार
कहा-
देश में मेरी मौत के लिए हवन हो रहा है
इसपर-
अपने विदेशी लवों को खोली
और महबूबा बोली-
घबराओ नहीं सरदार, वहां केवल -
विपक्ष की मर्यादा का निर्वहन हो रहा है
जब बसंती ने दिखलाया अपना आक्रोश
तो भर आया वीरू के भीतर भी जोश
अपने लावों को
और चिल्लाते हुये बोला-
ख़बरदार, सरदार, तुम्हारा हो गया है भंताधार
उधर ह्वाइट हॉउस में गर्थैया का नाच नगन हो रहा है
और इधर हिंदुस्तान में उजड़ा चमन हो रहा है
तुम्हे क्या लगता है हमें नहीं मालूम है ?
हमें मालूम है , की-
परमाणु मसौदे में गबन हो रहा है
तभी चिल्लाया सरदार / अरे ओ साम्भा बरखुरदार
क्या विपक्ष मेरी मौत चाहती है ?
साम्भा ने कहा-
नहीं सरदार , वह तो आपकी सरदारनी के लिए एक और सौत चाहती है
सरदार ने कहा-
वह मेरी अर्धांगिनी है, मेरे हर संसदीय कुकर्मों की सगिनी है
क्या वह इस चक्रवाती कूद में नहीं है ?
इसपर कालिया ने चुटकी लेते हुये कहा-
शायद वह अभी तलाक के मूड में नहीं है
तभी टपक पड़ा बीच में जय
बोला- मैं मानता हूँ ,की बक्त का हर सय तुम्हारा गुलाम है
मगर परमाणु मसौदे पर कोई नहीं तुम्हारे साथ है
जब आ हीं गया है परमाणु चक्रवात
तो दूर तलक जायेगी यह निकली हुई बात
ठाकुर ने कहा-
नियम- १८४ के तहत चर्चा करवईये
फ़ौरन स्पीकर को वुल्वायीये
यह सुनकर स्पीकर की चीख निकल आयी
वह फ़ौरन नियम-१९३ के तहत अपनी सहमती जताई
और फरमाया-
अभी कमजोर नहीं परे हैं तुम्हारे हाँथ
सरदार, हम हैं तुम्हारे साथ
यह सुनकर सरदार ने ठहाका लगाया
तभी ठाकुर ग़ुस्से में चिल्लाया-
मेज थप्थापाती बसंती को देख फ़रमाया-
क्या रखा है इन कुर्सियों में , मेजों में
अगर मैं चीन में होता तो उतार देता गोलियां सरदार के भेजों में

सरदार को अपनी हीं मौत मरने दो
एक- दो और करार अमेरिका के साथ करने दो

तभी हँसमुख भाई के शोले का पताक्छेप होता है
सरदार ठहाका लगाता है, ठाकुर रोता है
अपनी कुटिल चाल कामयाब होते देख
बंजारों का सरदार मुस्कुरा रहा है
ह्वईट हॉउस के लॉकर में-
परमाणु नीति का मसौदा छिपा रहा है ......../



1 comments:

  1. हंसमुख भाई के संसदीय शोले,
    अब अपुन क्या बोलें
    सामयिक घटनाओं को
    कविता का रूप देने की
    एक अच्छी कोशिश.

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top