एक और कविता गाँव को समर्पित --
आदमी कुत्ता हो सकता है
घोडा भी, गदहा भी
और बैल भी
लेकिन बैल-
नही हो सकता आदमी
कभी भी।
इतिहासकारों ने लिखा इतिहास
कवियों ने कविता
और आलोचकों ने की
आलोचनाएं खुलकर
विभिन्न मुद्दों पर
किन्तु-
किसी ने नही उठाई उंगली
कुत्ते की बफादारी पर
आदमी की सोचों
और घोडे की बहादुरी पर
कभी भी।
सबने कहा एक स्वर में
कि चिरंतन सत्य है यह
मृत्यु की तरह
कोई अतिश्योक्ति नहीं
और न-
शक की गुंजाइश ही ।
मगर छूट गया
एक किरदार
जिसकी नही की जा सकी चर्चा
इतिहास में/दर्शन में
कभी भी।
महरूम रखा गया
लोकोक्तियों / मुहावरों
और समालोचनाओं से आज तक
क्योंकि, ठेठ गंवई वह -
नही बैठ सका वातानुकूलित कक्ष में
कुत्ते की तरह
नही बंध सका जमींदारों/ राजाओं
महराजाओं के द्वार पर
घोडे की तरह
नही हिला सका दुम
व्यापारियों के आगे-पीछे गदहों की तरह
और आदमी की तरह
नही बन सका
आधा ग्रामीण/ आधा शहरी
कभी भी
जबकि मौजूद आज भी
उसके भीतर
कुत्ते की वफादारी / घोडे और गदहे की मजबूती
और आदमी का आत्मविश्वास
एक साथ ।
बैल-
एक दोस्त की मानिंद
देता साथ
उस किसान का
रहता हर-पल चौकस
जिसके साथ
हल चलाने/ पिराई करने
तथा पकी फसल को
मंडी पहुंचाने तक ।
समय आने पर कुत्ता-
काट सकता अपने मालिक को
गिरा सकता अपनी पीठ से घोडा भी
मुकर सकता बोझ देखकर गदहा भी
और आदमी मोड़ सकता मुँह
भार ढोने के भय से अचानक
लेकिन बैल-
न काट सकता/ न गिरा सकता /न मुकर सकता
और न भाग सकता
भार ढोने के भय से
कभी भी ।
बैल साम्प्रदायिक भी नही होता
आदमी की तरह
अपने स्वार्थ के लिए
गिराने का साहस भी नही जुटा पाता
मंदिर या मस्जिद को
नेतागीरी की मानसिकता से
कोसों दूर रहने वाला वह
विद्यमान है आज भी
गाँव के खेतों में/ दालानों में
परिश्रम करते हुए निरंतर ।
बैल नही हो सकता
कुत्ता/ घोडा /गदहा
या आदमी कभी भी
क्योंकि आलोचक
गाँव में नही
शहर में निवास करता है।
() रवीन्द्र प्रभात
( कॉपी राइट सुरक्षित )

8 comments:

  1. कविता अच्छी है रवीन्द्र भाई और बात भी कायदे की है. औरत को अगर गाय कहा जाये तब भी ठीक है. मगर आदमी अगर बैल हो जाये तो गईया को भी नही भाता है. आप कुच्छ भी कह लें लेकिन जमाना तो साँढों का है जो जिस खेत मे जी चाहे घुस कर चरने लगते है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. सत्य वचन. अच्छी रचना. बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  3. अद्भुत!!!
    सारे तथ्यों पर निगाह और उस निगाह पर भी चौकसी… वाकई बहुत सुंदर्… भीतर तक टटोल गई यह रचना…।

    उत्तर देंहटाएं
  4. रवीन्द्र जी एकद्म सही कहा आप ने, मेरी हिन्दी थोड़ी कमजोर है, क्या बैल और सांड दो अलग अलअग प्राणी हैं , अगर नही तो एक जगह है जहां बैल की बहुत पूछ है , जहां हर दम उसके गुण गाये जाते हैं- शेयर मार्केट

    उत्तर देंहटाएं
  5. अब क्या बतायें? सारा 'बैल चिंतन' तो शेयर मार्केट में सिमट कर रह गया है!

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुरम्य रचना! कटु सत्य तो यही है कि सारे विवाहित पुरुष 'बैल' की तरह जिन्दगी भर 'गृहस्थी' की गाड़ी खींचते रहते हैं। वैसे महाभारत की कथा है कि उर्वशी ने अर्जुन को "बैल" बना दिया था अभिशाप देकर, अपना प्रणय-निवेदन ठुकराने पर।

    उत्तर देंहटाएं
  7. अच्छी रचना,बहुत सुंदर्,....एकद्म सही कहा आप न,कटु सत्य है.बधाई.

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top