गज़ल-


एक कतरा जिन्दगी जो रह गयी है ,
घोल दे सब गंदगी जो रह गयी है।

भीख देगा कौन तुझको, ये बताना-
तुझमें ये आवारगी जो रह गयी है ?

आंख से आँसू छलक जाते अभीतक,
इश्क में संजीदगी जो रह गयी है
चाँदनी में घूमता है रात-भर वह,
चाँद में दोशीजगी जो रह गयी है
बेवसी की बात करना छोड़ दे अब,
ख़ुदगर्ज सी ये बंदगी जो रह गयी है !
सर कलम कर मेरा, खंजर फैंक दे ,
आंख में शर्मिन्दगी जो रह गयी है
फासला 'प्रभात' से है इसलिए बस,
आपकी नाराजगी जो रह गयी है ।

() रवीन्द्र प्रभात
( कॉपी राइट सुरक्षित )

9 comments:

  1. कविता में दम है प्रभात भाई

    उत्तर देंहटाएं
  2. बेवसी की बात करना छोड़ दे अब,
    ख़ुदगर्ज सी ये बंदगी जो रह गयी है !

    आपकी कलम आपसे नाराज़ रहने ही कहां देती है ! दाद कबूल कीजिए ।

    संजय गुलाटी मुसाफिर

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी गजल अच्छी लगी. कहना मुश्किल है कि आपका गद्य ज्यादा अच्छा है या पद्य . आप दोनो ही विधा मे कमाल करते है. करते रहिए. हमारी ही नही काफी लोगो की शुभकामनाये आपके साथ है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. आलोक भाई,
    ग़ज़लों और कविताओं में प्रयुक्त होने वाले शब्द और शब्दों के पर्याय कई अर्थ छोड़ते हैं, कहीं- कहीं शब्दार्थ से ज़्यादा महत्व उसका भावार्थ होता है, बहुत सुंदर प्रश्न किया है आलोक भाई,दोशीजगी यानी ? इस ग़ज़ल में दोशीजगी कॅ अभिप्राय
    ''कुँवारापन'' से है, यहशब्द अरवी भाषा से लिया गया है. आपकी जिज्ञाशा हेतु आभार!
    आशा है आप इसीप्रकार अपना स्नेह- संपर्क बनाए रखेंगे.




    मेरे ब्लोग पर आने का बहुत बहुत धन्यवाद्।

    उत्तर देंहटाएं
  5. शुक्रिया, जवाब देने का, और शब्दार्थ पूछने पर न झुँझलाने का!

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत बढिया प्रस्तुति.
    दीपक भारतदीप

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top