भूख-वहशी , भ्रम -इबादत वजह क्या है
हो गयी नंगी सियासत , वजह क्या है ?

मछलियों को श्वेत बगुलों की तरफ से -
मिल रही क्या खूब दावत , वजह क्या है ?

राजपथ पर लड़ रहे हैं भेडिये सब -
आम -जन की जान आफत , वजह क्या है ?

वीर योद्धाओं के पावन मुल्क में अब -
खो गयी मर्दों की ताक़त , वजह क्या है ?

आजकल बेटों को अपने बाप की भी -
कड़वी लगती है नसीहत , वजह क्या है ?

यूँ ग़ैर की करते तरफदारी '' प्रभात''
क्यों नहीं अपनों की चाहत , वजह क्या है ?

() रवीन्द्र प्रभात

(कॉपी राइट सुरक्षित )

8 comments:

  1. ऐसा क्यों हुआ , कैसे हुआ , कब हुआ , सवाल है उलझा हुआ... कुछ ऐसा ही सवाल मेरे बेटे ने किया था तब एक कविता ने जन्म लिया था ... याद आ गई , अब उसे शीघ्र ही पोस्ट करूँगी.

    उत्तर देंहटाएं
  2. मयन्क मिश्रा28 अक्तूबर 2007 को 2:32 pm

    प्रिय रवीन्द्र जी,
    एक बार फिर वेहद सुंदर और सामयिक प्रस्तुति हेतु बधाईयाँ!

    उत्तर देंहटाएं
  3. यूँ ग़ैर की करते तरफदारी '' प्रभात''
    क्यों नहीं अपनों की चाहत , वजह क्या है ?

    बहुत अच्छा है हुज़ूर. पते की बात कह गए आप.

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपके प्रश्न चिंतन का विषय है।
    दीपक भारतदीप

    उत्तर देंहटाएं
  5. वजह बस इतनी सी है कि सब गुमनामी के अंधेरों की तरफ अग्रसर है , स्थिति दुखद नहीं जानलेवा है

    उत्तर देंहटाएं
  6. वेहद सुंदर और सामयिक प्रस्तुति हेतु बधाईयाँ!

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपने सबकुछ कह दिया और पूछ रहे हैं वजह क्या है ?
    इस पर मैं यही कहूंगी क्या बात है?

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत खूब प्रभात जी,
    अच्छी लगी आपकी ग़ज़ल !

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top