सालों बाद देखा है

धनपतिया को आज

धुप की तमतमाहट से कहीं ज्यादा

उग्र तेवर में

भीतर-भीतर धुआंती

जीवन के एक महासमर के लिए तैयार ।

महज दो-तीन सालों में

कितना बदल गयी है वह

भड़कीले चटख रंगों की साडी में भी

अब नहीं दमकता उसका गोरा रंग

बर्फ के गोले की तरह

हो चले हैं बाल

और झुर्रियां

मरुस्थल के समान बेतरतीब ।

पहले-

बसंत के नव-विकसित पीताभ

नरगिस के फूलों की तरह

निर्मल दिखती थी धनपतिया

हहास बांधकर दौड़ती

बागमती की तरह अल्हड़

आसमानी रंग की साडी में

उमगती जब कभी

पास आती थी
बेंध जाती थी देह का पोर-पोर

अपने शरारती चितवन से ।

अब पूछने पर

कहती है धनपतिया-

बाबू !

औरत होना पाप है पाप....

कहते-कहते लाल हो जाता है चेहरा

तन आती है नसें

और आँचल में मुँह छुपाकर

बिफरने लगती है वह

नारी के धैर्य की

टूटती सीमाओं के भीतर

आकार ले रही

रणचंडी की तरह !

() रवीन्द्र प्रभात

5 comments:

  1. आज के समय मे यह कह ही सकते है कि औरत होना पाप है जो पुरुष को जन्म तो देती है लेकिन ममता में अन्धी हो कर उसे मानव की बजाय दानव बना देती है या बन जाने देती है. चण्डी बन कर ही अपना भय दिखाना होगा और नर को सही राह पर चलाना होगा. (कुछ अपवाद हैं उन माताओं को प्रणाम जिनके कारण कुछ पुरुष देव बन गए.)

    उत्तर देंहटाएं
  2. कविता अच्छी लगी ।
    घुघूती बासूती

    उत्तर देंहटाएं
  3. कविता कई देखे - पढ़े चरित्र मन में कौंधा गयी। यही उसकी सफलता है। धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  4. नारी के धैर्य की

    टूटती सीमाओं के भीतर

    आकार ले रही

    रणचंडी की तरह !


    बहुत अच्छी लगी ये पंक्तियाँ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. हृदय स्पर्शी कविता
    दीपक भारतदीप

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top