छल रहा विश्वास अब मैं क्या करूं आशा ?
हर तरफ़ संत्रास अब मैं क्या करूं आशा ?
दर्द का है साज, कोई अब तरन्नुम दे-
कह रहा मधुमास अब मैं क्या करूं आशा ?

जिस्म के सौदे में हैं मशगूल पंडित जी -

छोड़कर संन्यास , अब मैं क्या करूं आशा ?

तिनका-तिनका जोड़कर मैंने इमारत है गढी-

पर मिला बनवास, अब मैं क्या करूं आशा ?

आम-जन के बीच देकर क्षेत्रवादी टिप्पणी वह -

बन गया है ख़ास , अब मैं क्या करूं आशा ?

काव्य में खण्डित हुई है छंद की गरिमा -

गीत का उपहास , अब मैं क्या करूं आशा ?

()रवीन्द्र प्रभात

11 comments:

  1. बहुत बढिया गजल है।बधाई स्वीकारें।

    उत्तर देंहटाएं
  2. उत्कृष्ट, आपकी प्रशंसा यूंही नहीं हो रही।
    बहुत बढ़िया।

    उत्तर देंहटाएं
  3. भावभीनी रचना.. विश्वास के छले जाने पर भी आशा की एक किरण कहीं से फूट ही पड़ती है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह!
    सुंदर!!
    अति सुंदर!!
    एक अच्छी रचना देने के लिए धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही सुंदर रचना, बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  6. रविन्द्र - बिल्कुल हमारे समय की ही बात कही है ; लय और लावण्य से - [ राज ठाकरे जैसे तमामों पर तंज़ बहुत सटीक है] - मनीष

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत बढ़िया लिखा है ...अच्छा लगा ...बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  8. खूबसूरत गजल। आपने बडी रदीफ को लेकर एक शानदार गजल कही है। यह बडी बात है। बधाई स्वीकारें।

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत बढ़िया।
    बधाई
    मेरे भाई
    किंतु आशा ही हमारी पूंजी है!

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत खूबसूरत गज़ल है रविन्द्र भाई...बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  11. काव्य में खण्डित हुई है छंद की गरिमा -
    गीत का उपहास , अब मैं क्या करूं आशा ?
    -----------------------------

    वर्तमान स्थिति पर सटीक पंक्तियां
    दीपक भारतदीप

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top