हरतरफ हादसा देखिए !

देश की दुर्दशा देखिए !!

क्षेत्रवादी करे टिप्पणियाँ -

देश का रहनुमा देखिए !!

लक्ष्य को देख करके कठिन-

कांपता नौजवां देखिए !!

भर दिए कैसेटों में जहर -

जुर्म की कहकशां देखिए !!

गा रहे गीत गूंगे सभी -

संजीदा है हवा देखिए !!

वो कहने को बांहों में हैं -

फ़िर भी ये फासला देखिए !!

चीखते-बोलते बेहिचक -

आदमी बेजुवां देखिए !!

बेच करके चमन चल दिया-

बाग़ का पासबां देखिए !!

जालिमों को करो अब रिहा-

मुन्सिफों के वयां देखिए !!

"प्रभात" गुमनाम है यूं मगर-

शायरी की जुबां देखिए !!

() रवीन्द्र प्रभात

9 comments:

  1. अच्छा है भाई. छोटे बह्र में बड़ी बात. उम्दा.

    उत्तर देंहटाएं
  2. ग़ज़ब! आपने तो गागर में सागर भर दिया। एक छोटी से कविता में पूरे भारत का मौजूदा चित्र दिखा दिया.

    उत्तर देंहटाएं
  3. एक्दम सच है आप ने बड़े जोरदार ढंग से अपनी बात रखी है

    उत्तर देंहटाएं
  4. बेहतरीन - बहुत सशक्त - बिल्कुल बेज़ुबान नहीं - डायनामाईट - मनीष

    उत्तर देंहटाएं
  5. वो कहने को बांहों में हैं -फ़िर भी ये फासला देखिए !!
    चीखते-बोलते बेहिचक -आदमी बेजुवां देखिए !!

    वाह!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. खामोशी तोड़ती हुई , हालात को ललकारती हुई
    ज़मीनी रचना . जमकर लिखते रहिए .
    आपकी परिकल्पना में भाषा के साथ जीने की कला की पुकार सुन पा रहा हूँ .

    उत्तर देंहटाएं
  7. बेच करके चमन चल दिया-
    बाग़ का पासबां देखिए !!
    जालिमों को करो अब रिहा-
    मुन्सिफों के वयां देखिए !!

    बहुत खूब रवीन्द्र जी...अच्छा लगा...बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  8. बेच करके चमन चल दिया-
    बाग़ का पासबां देखिए !!
    -----------------

    क्या जोरदार पंक्तियाँ हैं
    दीपक भारतदीप

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top