सरस नवनीत लाया है ,
सखी री फागुन आया है !!

बरगद ठूंठ भयो बासंती , चंहु ओर हरियाली ,
चंपा, टेसू , अमलतास के भी चहरे पे लाली ,
पीली सरसों के नीचे मनुहारी छाया है !
सखी री फागुन आया है !!

तन पे, मन पे सांकल देकर द्वार खड़ी फगुनाहट,
मन का पाहुन सोया था फ़िर किसने दी है आहट,
पनघट पे प्यासी राधा के सम्मुख माया है !
सखी री फागुन आया है !!

हाँथ कलश लेकरके चन्द्रमा देखे राह तुम्हारी ,
सूरज डूबा , हुई हवा से पाँव निशा के भारी ,
बूँद-बूँद कलशी में भरके रस छलकाया है !
सखी री फागुन आया है !!

ठीक नहीं ऐसे मौसम में मैं तरसूं - तू तरसे ,
तोड़ के सारे लाज के बन्धन आजा बाहर घर से ,
क्यों न पिचकारी से मोरी रंग डलवाया है !
सखी री फागुन आया है !!
()रवीन्द्र प्रभात

11 comments:

  1. आपने तो होली की मस्ती में डूबो दिया। बहुत अच्छा

    उत्तर देंहटाएं
  2. अति सुंदर ...होली आ रही है.....आपको शुभकामनायें और बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर रचना लिखी है।अच्छी लगी।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत बढ़िया गीत है। लय, गति सब मोहक।
    शुक्रिया...

    उत्तर देंहटाएं
  5. ठीक नहीं ऐसे मौसम में मैं तरसूं - तू तरसे ,
    तोड़ के सारे लाज के बन्धन आजा बाहर घर से ,
    क्यों न पिचकारी से मोरी रंग डलवाया है !
    सखी री फागुन आया है
    -------------------
    कहीं किसी सम्मेलन में सुनाये तो यह बताना मत भूलिए की यह पंक्तियाँ मुझे बहुत पसंद आयीं.
    दीपक भारतदीप

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपकी पोस्ट के माध्यम से फगुनाहट तो मिली! अन्यथा जिन्दगी काम में पिसी जा रही है।
    धन्यवाद रवीन्द्र प्रभात जी।

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top