होली में हो ली हो वाणी मिठास की ,
आंखों में झूल जाए मस्ती एहसास की,

खिल जाए खुशियाँ, घर में उजास हो,
न कोई दु:खी और न कोई उदास हो ,

मस्ती हवा में यूं खुलकर के नाचे ,
जोगीरा कोयलिया व उल्लू भी बांचे,

किसी से कोई भी करे बैर ना,
विद्वेष की अब रहे खैर ना,

गली-कूचे सराबोर रंगों से हो ,
पर न जाती-धरम और न दंगों से हो,

अक्षर के अक्षत से सबका अभिषेक हो ,
भंग हो, रंग हो , विचार मगर नेक हो ,

हर तरफ़ मस्तों की टोली हो, इसबार
ऐसी हीं बिंदास होली हो इसबार ....!
क्योंकि-
जीवन रूपी प्रवृतियों के कलश में
सामूहिकता का रंग भरना ही " होली" है.....!
मेरी शुभकामना है ,कि -रंगों का यह निश्छल त्यौहार
आप व आपके परिवार जन की
स्वस्थ प्रवृतियों का श्रृंगार करे
आत्मिक शक्तियों का विकास करे
रखे उल्लसित , उत्साहित और प्रसन्नचित हमेशा
संचारित करे चेतना में सदइच्छा - सदभाव -सदाचार....!
आप सभी के लिए "होली"
लाये सुखद समाचार ...!

"होलीकोत्सव" की हार्दिक बधाईयाँ !!

शुभेच्छु -
रवीन्द्र प्रभात

10 comments:

  1. बहुत मन से उल्लास का स्रोत ढ़ूंढ़ रहे हैं हम और वह आपकी कवित में मिलता दीख रहा है। बहुत बधाई हो जी होली की।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बड़ी रंगीन तरह से पेश किया है,आपने ज़ज़्बे !काश ऎसे शब्द मैं भी बुन पाता...मेरी शुभकामनायें स्वीकार करें

    उत्तर देंहटाएं
  3. ्बहुत बढिया लिखा है। होली की बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  4. भाई प्रभात जी,
    अनोखे अंदाज़ में ,रंगा आपका ब्लॉग
    होली के संग जम गया , रंग फाग का आज !

    इसी तरह जमकर लिखते रहिए
    और रंगकर जमते रहिए !

    बधाई....बधाई.....बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  5. रविन्द्र - आपके रंग ऐसे ही बारह मास धुंधले हटायें - सपरिवार होली की शुभ कामनाएँ - मनीष

    उत्तर देंहटाएं
  6. आप सभी को परिवार के साथ
    होली की शुभ कामनाएं --

    उत्तर देंहटाएं
  7. रवीन्द्र जी
    सुन्दर रचना। होली मुबारक।

    उत्तर देंहटाएं
  8. बंधु,
    अंधेरे की भाषा में
    लिखी गई आलोक की यह इबारत
    आपको भी पसंद है.....जानकार खुशी हुई.
    धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  9. खूबसूरत! आपको होली मुबारक अब देर से ही सही...:)

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top