कैनवस पर अब चीड़ बना ,
घर को ही कश्मीर बना ।

सत्ता के दरवाजे पर ना -
बगुले की तसवीर बना ।

झूठ-सांच में रक्खा क्या -
मेहनत कर तकदीर बना ।

रोज धूप में निकलो मत -
चेहरे को अंजीर बना ।

ऐटम-बम से हाथ जलेंगे -
प्यार की इक तासीर बना ।

सूरज सिर पर आया है -
मन के भीतर नीर बना ।

अदब के दर्पण में "प्रभात"
ख़ुद को गालिब-मीर बना ।
()रवीन्द्र प्रभात



16 comments:

  1. सत्ता के दरवाजे पर ना -बगुले की तसवीर बना ।
    gazab gazab ka sher hai,bahut hi khubsurat gazal hai,ek mast mast andaz mein,bahut khub.
    झूठ-सांच में रक्खा क्या -मेहनत कर तकदीर बना
    ye baat sau anne sahi hai.

    उत्तर देंहटाएं
  2. पेंटिंग और कविता दोनों लाजवाब.

    उत्तर देंहटाएं
  3. पेंटिंग और कविता दोनों लाजवाब.

    उत्तर देंहटाएं
  4. झूठ साँच मे रखा क्या
    मेहनत कर तकदीर बना ""

    क्या बात है रवीन्द्र साहब !!! मरहबा मरहबा

    उत्तर देंहटाएं
  5. रोज धूप में निकलो मत -
    चेहरे को अंजीर बना

    वाह ! सरल भाषा में सुंदर बातें कह जाते हैं आप...

    उत्तर देंहटाएं
  6. गज़ल अच्छी बन पडी है.
    एक-दो शेर इसी काफिया रदीफ पर पेश हं:

    कोई काम अनोखा कर
    अपनी नयी नज़ीर बना.

    नये नये रंगों को ढूंढ,
    एक नयी तस्वीर् बना

    उत्तर देंहटाएं
  7. सरल भाव, अद्भुत प्रस्तुति! बहुत सुन्दर।

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत बेहतरीन:

    अदब के दर्पण में "प्रभात"
    ख़ुद को गालिब-मीर बना ।

    वाह!!!

    उत्तर देंहटाएं
  9. रोज धूप में निकलो मत -
    चेहरे को अंजीर बना ।


    बहुत बढ़िया ओर पेंटिंग का भी जवाब नही......

    उत्तर देंहटाएं
  10. सूरज सिर पर आया है -
    मन के भीतर नीर बना ।
    अदब के दर्पण में "प्रभात"
    ख़ुद को गालिब-मीर बना ।

    बहुत खूब ..अच्छा लगा...बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  11. Hello. This post is likeable, and your blog is very interesting, congratulations :-). I will add in my blogroll =). If possible gives a last there on my blog, it is about the Notebook, I hope you enjoy. The address is http://notebooks-brasil.blogspot.com. A hug.

    उत्तर देंहटाएं
  12. प्रभात जी, आपने गजल विधा को नये आयाम दिये हैं, बधाई स्वीकारें।

    उत्तर देंहटाएं
  13. झूठ-सांच में रक्खा क्या
    मेहनत कर तकदीर बना ।
    सही ...सुंदर !

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top