भर दे जो रसधार दिल के घाव में ,
फ़िर वही घूँघरू बंधे इस पाँव में !

द्रौपदी बेवस खड़ी कहती है ये -
अब न हो शकुनी सफल हर दाव में !

बर्तनों की बात मत अब पूछिए-
आजकल सब व्यस्त हैं टकराव में !

मंहगाई और मेहमान दोनों हैं खड़े-
काके लागूं पाय इस अभाव में ?

है हरतरफ़ क्रिकेट की चर्चा गरम -
बेडियां हॉकी के पड़ गए पाँव में !

है सफल माझी वही मझधार का-
बूँद एक आने न दे जो नाव में !

बात करता है अमन की जो "प्रभात "
भावना उसकी जुडी अलगाव में !

(रवीन्द्र प्रभात)

6 comments:

  1. बर्तनों की बात मत अब पूछिए-
    आजकल सब व्यस्त हैं टकराव में !
    मंहगाई और मेहमान दोनों हैं खड़े-
    काके लागूं पाय इस अभाव में ?
    wah wah bahut khub

    उत्तर देंहटाएं
  2. द्रौपदी से वर्तमान - सब हैं एक समान!

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्रभात जी,

    बर्तनों की बात मत अब पूछिए-
    आजकल सब व्यस्त हैं टकराव में !

    मंहगाई और मेहमान दोनों हैं खड़े-
    काके लागूं पाय इस अभाव में ?

    बात करता है अमन की जो "प्रभात "
    भावना उसकी जुडी अलगाव में !

    हर शेर बरबस ही "वाह" कह उठने को मजबूर करता है। उपर उद्धरित शेर खास पसंद आये।

    *** राजीव रंजन प्रसाद
    www.rajeevnhpc.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  4. मंहगाई और मेहमान दोनों हैं खड़े-
    काके लागूं पाय इस अभाव में ?

    उत्तर देंहटाएं
  5. मंहगाई और मेहमान दोनों हैं खड़े-
    काके लागूं पाय इस अभाव में ?

    बहूत सुंदर रवीन्द्र जी ,बिना गोलमोल सिधे मर्के कि बात और सीधी सादी भाषा मे.

    उत्तर देंहटाएं
  6. द्रौपदी बेवस खड़ी कहती है ये -
    अब न हो शकुनी सफल हर दाव में !

    मंहगाई और मेहमान दोनों हैं खड़े-
    काके लागूं पाय इस अभाव में ?


    क्या बात है.....
    बेहद उम्दा भाव बेहद खूबसूरती से लिख दिये हुज़ूर आपने
    दिल को छू गये...

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top