खेल खेल सा खेल खिलाड़ी,
सबसे रख तू मेल खिलाड़ी !
नियम बने हैं बाती- भाँति,
खेल है दीपक, तेल खिलाड़ी !
बन्दर के हांथों में मत दे,
मीठे-मीठे बेल खिलाड़ी !
खुशी जीत की सबको होती,
हार भी हंसकर झेल खिलाड़ी !
ख्वाब हो ऊंचे, लक्ष्य बड़े हों,
मन में हो ना मैल खिलाड़ी !
टीम से तुम हो, टीम न तुमसे ,
दुनिया रेलमपेल खिलाड़ी !
भाव खाओ मत, बड़े नही हो,
"हेड" हो या फ़िर "टेल" खिलाड़ी !
(रवीन्द्र प्रभात )

5 comments:

  1. रवीन्द्र जी,

    रचना बहुत अच्छी है उस पर आपके चित्र नें इसे समसामयिक बना दिया है। बधाई स्वीकारें..

    *** राजीव रंजन प्रसाद

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत बढिया और ह्रदय स्पर्शी कविता
    दीपक भारतदीप

    उत्तर देंहटाएं
  3. ये तो टेल रहित टेलिये हैं। क्या भाव देना इनको?! अभद्र/असंस्कृत लोग!

    उत्तर देंहटाएं
  4. दोनों ही छिचोरे ओर असभ्य है नही जानते किसी पद पे बने रहकर कुछ सामाजिक आचरण का भी पालन करना पड़ता है......

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहूतही सही मजेदार और गजब है रविन्द्र जी !!

    काश ये अपना बल्ले बल्ले भज्जी भी पढ लेता !!

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top