चुनाव जब भी आता है दोस्त !
सजते हैं वन्दनवार हमारे भी द्वार पर
और हम-
माटी के लोथडे की मानिंद
खड़े हो जाते हैं भावुकता की चाक पर
करते हैं बसब्री से इंतज़ार
किसी के आने का .....!
कोई न कोई अवश्य आता है मेरे दोस्त
और ढाल जाता है हमें -
अपनी इच्छाओं के अनुरूप
अपना मतलब साधते हुए
शब्जबाग दिखाकर .....!
उसके जाने के बाद -
टूटते चले जाते हैं हम
अन्दर हीं अन्दर
और फूटते चले जाते हैं थाप-दर-थाप
अनहद ढोल की तरह .....
यह सोचते हुए , कि-
" वो आयेंगे वेशक किसी न किसी दिन , अभी जिंदगी की तमन्ना है बाकी ......!"
()रवीन्द्र प्रभात


कार्टून: इंडियन कार्टून से साभार

3 comments:

  1. और फूटते चले जाते हैं थाप-दर-थाप
    अनहद ढोल की तरह .....
    यह सोचते हुए , कि-
    " वो आयेंगे वेशक किसी न किसी दिन , अभी जिंदगी की तमन्ना है बाकी ......!"
    bahut sahi farmaya,bahut badhiya

    उत्तर देंहटाएं
  2. देश के मौजूदा हालात को बडे प्रभावशाली तरीके से अिभव्यक्त िकया है आपने ।

    http://www.ashokvichar.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  3. बन्दनवार लगने लगे हैं। देखिये क्या होता है!

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top