(शहीद दिवस पर विशेष )

जहाँ पे खुशनुमा गुल से सजा हो गुलिस्तां यारों
समझ लेना वही है गांधी का हिन्दुस्तां यारों ।

हमेशा अम्न के ही वास्ते जीने की चाहत में -

बड़े बेचैन दिखते हैं हमारे नौजवां यारों ।

कहीं हिन्दू कहीं मुस्लिम कहीं सिक्खों-इसाई हैं -
गले मिलते हुए गुजरे हमेशा कारवां यारों ।

अदब से सर झुकाकर मिलने की तहजीब हमारी -
जिसे झुककर करे सलाम धरती-आसमां यारों ।

शराफत से रहे दुश्मन बहुत सम्मान देते हम-
संभल जाते अगर हो जाए दुश्मन मेहरबां यारों ।

हम शायरी से दर्दमंदों की दवा करते हैं यार -
हमारे गीत-ग़ज़लों के बहुत हैं कद्र दां यारों ।

चमन को सींचने में जिसने जीवन होम कर डाला -
उसी बापू को मेरा फ़िर नमन आज श्रद्धा का  यारों ।
() रवीन्द्र प्रभात

12 comments:

  1. साबरमती के संत को

    महात्‍मा गांधी बापू को
    शत शत श्रदधेय नमन

    उत्तर देंहटाएं
  2. हमारे बापू समूचे ब्रह्माण्ड के लिए अनुकरणीय हैं , हमें गर्व है की हम गांधी के इस देश में निवास करते हैं . शहीद दिवस पर मेरी भी विनम्र श्रद्धांजली बापू को फ़िर एक बार ........!
    आपकी ग़ज़ल का हर शेर बार-बार पढ़ने को मजबूर करती है , आपका आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  3. कहीं हिन्दू कहीं मुस्लिम कहीं सिक्खों-इसाई हैं -
    गले मिलते हुए गुजरे हमेशा कारवां यारों । "

    आमीन! बहुत ही सुन्दर रचना .

    उत्तर देंहटाएं
  4. ग़ज़ल का हर शेर दिल में उतर गया .....बधाईयाँ !

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह.. अच्छी ग़ज़ल है.. प्रभात जी, बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  6. अदब से सर झुकाकर मिलने की तहजीव मेरी है-
    जिसे झुककर करे सलाम धरती-आसमां यारों ।

    बहुत खूब लिखा है आपने ..

    उत्तर देंहटाएं
  7. एक सार्थक रचना बापू के बहाने , आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  8. बापू पर लौटना चाहिये भारत को।

    उत्तर देंहटाएं
  9. बापू को हमारी भी श्रधांजलि...........
    आपकी ग़ज़ल का हर शेर बोलता हुवा है........तराशा हुवा हीरा है

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top