मैं समय हूँ !


मैंने हर प्रकार की भौगोलिक परिस्थितियाँ देखी है मैंने धूप में झुलसती फसलों को भी देखा है और सावनी फुहार को भी ...मैंने शीत में कुहासों को धीरे से झुककर घास को चुम्बन लेते भी देखा है और पुरवा हवा की शीतलता को भी ....मगर आज इस झुलसाने वाली गर्मी में पहाड़ों की रानी के आँचल की छाया में चंद पलों के लिए विश्राम की इच्छा महसूस हो रही है

तो आईये हमें पहाड़ों की गोद में चंद पलों के लिए विश्राम का अवसर प्रदान कर रही हैं रंजना भाटिया


चलते हैं उनसे यात्रा वृत्तांत सुनने उनके पास ...यहाँ किलिक करें




उत्सव जारी है मिलते हैं एक अल्प विराम केबाद यानी ०३ बजे परिकल्पना पर

1 comments:

  1. इस गर्मी में आप पहाड़ों की यात्रा पर ले गये, आभार.

    रोचक वृतांत..ऐसा लगा हम भी यात्रा कर रहे हैं

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top