श्रेष्ठ पोस्ट श्रृंखला के अंतर्गत आज प्रस्तुत है हिंदी चिट्ठाकारिता में अपनी सक्रियता से समूची दुनिया को अचंभित करने वाले श्री समीर लाल "समीर" के द्वारा उड़न तश्तरी पर दिनांक १० जून २००९ को प्रकाशित यह आलेख -कमबख्त, पसीने की बू नहीं जाती!! ( किलिक करें)


बच्चों का कोना में पढ़िए आज एक नन्ही सी बच्ची की मासूम कविता

और उसके दो रेखाचित्र .....यहाँ किलिक करें .

उत्सव जारी है , मिलते हैं एक विराम के बाद यानी सायन ०५ बजे परिकल्पना पर...

4 comments:

  1. यह आलेख यथार्थ की पहचान को चेहरा है जो आदमी को जिन्दा रखने की ताकत में बढ़ोत्तरी करता है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. समीर जी का यह आलेख अदभुत है ! श्रेष्ठ प्रविष्टि के सर्वथा योग्य ! आभार !
    पहले ही दिन ब्लॉगोत्सव ने छू ली है अदभुत ऊंचाई !

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत आभार मेरी रचना को यहाँ स्थान देने के लिए.

    उत्तर देंहटाएं
  4. रानी बिटिया पाखी को उत्सव में देखकर मन हर्षित हुआ. सुन्दर चित्र बनाये हैं.

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top