अभी-अभी मैंने देखा कि पिछले पोस्ट में जब मैंने प्रथम अन्तराष्ट्रीय हिंदी बलोंग  उत्सव का सुझाव तथा प्रस्ताव रखा तो किसी ने ब्लोगवाणी पर सबसे पहले नापसंद का चटका लगा दिया , इस पर अचानक मुझे मृदुला गर्ग की एक कविता की कुछ पंक्तियाँ याद आ गयी जिसमें लिखा गया है कि- " मैंने अपने होने का एलान किया और लोगों की नींद उड़नछू हो गयी ....!"



मेरे मित्र आपको परेशान होने की कोई जरूरत नहीं है क्योंकि यह प्रस्ताव केवल लखनऊ ब्लोगर एसोसिएसन से जुड़े कार्यकर्ताओं तथा ब्लोगोत्सव-२०१० से जुड़े रचनाकारों एवं शुभचिंतकों हेतु है ....!
खैर, आईये आगे बढ़ते हैं और इस प्रस्ताव को सार्वजनिक करते हैं परत-दर-परत !
 
==========================================================================
प्रस्तावना : प्रथम अन्तराष्ट्रीय हिंदी बलोंग उत्सव-2010


लखनऊ ब्लोगर एसोसिएसन, परिकल्पना ब्लॉग, लोकसंघर्ष,संवाद डोट कोंम ने संयुक्त रूप से हिन्दी को वैश्विक पहचान देने वाले अंतर्राष्ट्रीय प्रयासो को एक मंच देने के लिए इस वर्ष प्रथम अन्तराष्ट्रीय हिन्दी ब्लॉग उत्सव की भव्य परिकल्पना की है, जिसमे हिन्दी भाषा व सहित्य के ज्वलंत विषयो पर विमर्श किये जायेंगे । उत्सव मे नाटक,रचना पाठ, विचार गोष्ठी, कवि सम्मेलन आदि कार्यक्रमों के साथ-साथ हिंदी सेवी सम्मान भी दिया जाएगा।

इस उत्सव मे भारतीय मनीषियो के आलावा अमेरीका, कनाडा, यूं .के., सहित कई देशो से साहित्यकार, पत्रकार, हिन्दी सेवी व शब्दकर्मी भाग लेगें . हिंदी जगत के लिए मानक बन चुके परिकल्पना ब्लॉग के द्वारा मुख्य रूप से आयोजित इस अन्तराष्ट्रीय उत्सव में कई महत्वपूर्ण मंत्री सहित कई सांसद व विदेश मंत्रालय, गृह मंत्रालय सहित कई अन्य मंत्रालयों के वरिष्ठ अघिकारियों की उपस्थिति में हिन्दी के लब्घप्रतिष्ठित विद्धान, पत्रकार, लेखकगण बडी संख्या मे भाग लेगें और हिन्दी से जुडे तमाम मुद्दों मुद्दों पर सार्थक बहस को अंजाम देंगे ।

इस बार यह अन्तराष्ट्रीय उत्सव २४ से २६ दिसम्बर, २०१० को मिनी स्टेडियम रिग रोड विकास नगर लखनऊ या फिर कैसरबाग़ स्थित राय उमानाथ बाली प्रेक्षागृह मे आयोजित करने की योजना बन रही है । इस उत्सव मे विदेश से लगभग 100 और देश के विभिन्न भागों से लगभग 200 विद्वानो की भागीदारी सुनिश्चित की जायेगी ।

इस अन्तराष्ट्रीय हिन्दी ब्लॉग उत्सव-२०१० का मुख्य विषय ‘हिन्दी ब्लॉग की सार्थक रचनाघर्मिता ‘ है। बहुराष्ट्रीय कंपनियो, मीडिया मे तेजी से बदलती भाषा के कारण उत्पन्न चुनौतियों का सामना करते हुए कैसे अगली पीढी को हिंदी ब्लोगिंग से जोड़ा जाए इस पर सार्थक बहस उत्सव का मुख्य लक्ष्य होगा । बडे पैमाने पर युवाओं की भागीदारी उत्सव की मुख्य विशेषता होगी। हिंदी का सबसे प्रतिष्ठित अन्तराष्ट्रीय कवि सम्मेलन, नाटक, गीत संगीत, अकादमिक सत्रो की विचार गोष्ठियां और इन सबमें युवाओं का बढ-चढ कर हिस्सा लेना इस अन्तराष्ट्रीय उत्सव का मुख्य आकर्षण होगा।
==========================================================================
यह प्रस्तावना जारी है ......मिलते हैं एक अल्पविराम के बाद
तबतक चलिए चलते हैं कार्यक्रम स्थल की ओर जहां डा. सुभाष राय उपस्थित हैं अपनी एक कविता के साथ ....यहाँ किलिक करें

 

10 comments:

  1. बहुत सुखद लगा ये समाचार ..दुआ है ये आयोजन सफलता के नए कीर्तिमान रचे .

    उत्तर देंहटाएं
  2. यह तो बहुत ख़ुशी की बात है .....मैं दुआ करती हूँ कि यह प्रस्ताव शीघ्र पारित हो

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपका आभार रवींद्र सर, जहाँ तक मैं उस वक़्त भारत में ही होंगा और उपस्थित रहूँगा.

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुखद लगा ये समाचार ..

    उत्तर देंहटाएं
  5. यथासमय सूचित करेंगे तो आयोजन में भाग अवश्य लेना चाहूंगा ।
    आप सबसे मिल कर हार्दिक प्रसन्नता होगी । … और यक़ीन मानें आपको भी हमसे मिल कर प्रसन्नता ही होगी ।
    - राजेन्द्र स्वर्णकार
    शस्वरं

    उत्तर देंहटाएं
  6. हर्षित करने वाली सूचना है यह !
    प्रतीक्षित ! आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. आदरणीय प्रभात जी , बहुत ही सुन्दर प्रस्ताव और सराहनीय कोशिश है यह , इसकी सफलता के लिए ढेरों शुभ कामनाएं ..किसी भी तरह से हम अपनी हिंदी को एक मुकाम दे सकें इस में जो भी जो कुछ कर सके उस को भरपूर स्नेह और सम्मान दिया ही जाना चाहिए ..
    सुरेन्द्र कुमार शुक्ल 'भ्रमर' ५
    भ्रमर का दर्द और दर्पण

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top