कल की विडिओ प्रस्तुति के क्रम में आज प्रस्तुत है एक और मुक्तक -
" प्यार देवता है प्यार ही है अल्ला ,
सच्ची मोहब्बत में यार ही है अल्ला,
खुद को जो समझा, खुदाई को समझा-
खुद पे किया ऐतवार ही है अल्ला !"


5 comments:

  1. बहुत खूब इसी से मिलती जुलती कुछ पंक्तियाँ मैंने अपने ब्लॉग पर भी दी थी ..

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत खूब!
    चंद पंक्तियों में सुन्दर बात....
    शुभकामनायें....

    उत्तर देंहटाएं
  3. क्या बात है जनाब !

    वाह वाह !

    आनन्द आ गया .............जय हो

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top