एक ऐसी नन्ही ब्लोगर जिसके तेवर किसी परिपक्व ब्लोगर से कम नहीं ......जिसकी मासूमियत में छिपा है एक समृद्ध रचना संसार .....जो अपने मस्तिस्क की आग को बड़ी होकर पूरी दुनिया के हृदय तक पहुंचाना चाहती है ....जानते हैं कौन है वो ?

वह है हमारी, आपकी,सबकी लाडली अक्षिता ....
यानी अक्षिता पाखी , जिसे हम ब्लोगोत्सव -२०१० में प्रकाशित रचनाओं की श्रेष्ठता के आधार पर "वर्ष की श्रेष्ठ नन्ही ब्लोगर " के रूप में सम्मानित करने का निर्णय लिया है ।

35 comments:

  1. bahut bahut badhaai
    aur
    dheron mangal kaamnaayen
    sushri akshita paakhi ke liye

    saath hi saath aapko dhnyavaad !

    उत्तर देंहटाएं
  2. अक्षिता पाखी तो ढेरों बधाई ..और उज्जवल भविष्य के लिए शुभकामनाये.
    आपको धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  3. अक्षिता को बहुत बधाई,
    अपने माँ- पापा का नाम रोशन करो, हमेशा अव्वल आती रहो यही आशीष ..!

    उत्तर देंहटाएं
  4. अक्षिता पाखी तो ढेरों बधाई उज्जवल भविष्य के लिए शुभकामनाये आशीर्वाद। बिलकुल सही चुनाव है।
    धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  5. इस प्यारी नहीं सी गुडिया को जिसका नाम अक्षिता है बहुत बहुत बधाई और स्नेहाशीष !

    उत्तर देंहटाएं
  6. अक्षिता पाखी को ढेरों बधाई और शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  7. अक्षिता पाखी तो ढेरों बधाई ..और उज्जवल भविष्य के लिए शुभकामनाये.
    आपको धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  8. यह बधाई नहीं, जश्न का समय है...शीघ्र ही इसकी चर्चा बाल-दुनिया पर भी.

    उत्तर देंहटाएं
  9. अब ''बाल-दुनिया'' पर भी बच्चों की बातें, बच्चों के बनाये चित्र और रचनाएँ, उनके ब्लॉगों की बातें , बाल-मन को सहेजती बड़ों की रचनाएँ और भी बहुत कुछ....आपकी भी रचनाओं का स्वागत है.

    उत्तर देंहटाएं
  10. हा हा ! इनके कम्पटीशन में तो दूर दूर तक कोई था ही नहीं. बहुत बहुत बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  11. अक्षिता को इस उपलब्धि पर हार्दिक बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  12. वाह पाखी, खूब पढो-लिखो और चित्र बनाओ...ढेर सारी खुशियाँ आपकी झोली में आयेंगीं.

    उत्तर देंहटाएं
  13. आपकी ममा ने अपने ब्लॉग 'शब्द-शिखर' पर लिखा है कि- ''जरुरत है आप भी बच्चों को स्पेस दें, उनकी बातों या पेन लेकर बनाये गए चित्रों को यूँ ही हवा में नहीं मानें, उनमें भी कुछ न कुछ छुपा है..बस जरुरत है पारखी निगाहों की'' ...वाकई सटीक विश्लेषण. तभी तो पाखी बिटिया ख़िताब ले गई. अब खुला राज...मुबारक हो.

    उत्तर देंहटाएं
  14. नन्हीं ब्लागर अक्षिता को ढेरों प्यार व बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  15. अक्षिता की सृजनात्मकता तो अंतर्मन को छू गई...शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  16. एक ऐसी नन्ही ब्लोगर जिसके तेवर किसी परिपक्व ब्लोगर से कम नहीं.जिसकी मासूमियत में छिपा है एक समृद्ध रचना संसार, जो अपने मस्तिस्क की आग को बड़ी होकर पूरी दुनिया के हृदय तक पहुंचाना चाहती है...परिकल्पना ब्लॉग पर रविन्द्र प्रभात द्वारा अक्षिता के लिए लिखे गए ये शब्द थाती की तरह हैं, इन्हें सहेज कर रखियेगा अक्षिता जी.

    उत्तर देंहटाएं
  17. हुर्रे.....केक खिलाओ जल्दी से पाखी.

    उत्तर देंहटाएं
  18. अक्षिता पाखी बिटिया को देखकर बड़ा प्यार आया. आपके ऊपर तो आज आशीष बरसाने का मन कर रहा है और ढेर सारी चाकलेट खिलाने का मन भी.

    उत्तर देंहटाएं
  19. तो पाखी बिटिया ये ख़िताब ले गई. पर हमें मिठाई भी नहीं खिलाई...हम गुस्सा हो गए पाखी से.

    उत्तर देंहटाएं
  20. जलवे हैं पाखी के...मम्मी-पापा की तरह अभी से सम्मान और ख़िताब. मम्मी-पापा का नाम खूब रोशन करो. हमारा आशीर्वाद सदैव आपके साथ है.

    उत्तर देंहटाएं
  21. पाखी है ही इतनी प्यारी कि लोग खींचे चले आते हैं. रविन्द्र प्रभात और आयोजन से जुड़े सभी लोगों ने पाखी को श्रेष्ठ नन्ही चिट्ठाकारा का ख़िताब देकर जता दिया है कि बच्चे भी किसी से कम नहीं. पाखी को हार्दिक बधाइयाँ. इस अवसर पर पाखी के पापा के.के. यादव जी और ममा आकांक्षा यादव जी को भी बधाई कि उन्होंने पाखी को वो परिवेश और संस्कार दिए कि पाखी को यह सम्मान मिला.

    उत्तर देंहटाएं
  22. रवीन्द्र अंकल जी,

    ब्लागोत्सव में मुझे ''वर्ष की श्रेष्ठ नन्ही चिट्ठाकारा'' का ख़िताब देने पर आपको तथा आयोजन से जुड़े सभी अंकल-आंटी जी लोगों को
    ढेर सारा प्यार व आभार. अपना स्नेह व आशीर्वाद यूँ ही बनाये रहें.

    उत्तर देंहटाएं
  23. ....आप सभी लोगों ने टिप्पणियां देकर मुझे मोटिवेट किया, इसके लिए आप सभी का आभार. अपना स्नेह व आशीर्वाद यूँ ही बनाये रहें.

    उत्तर देंहटाएं
  24. पाखी की ड्राइंग और पाखी की कविता हमने भी पढ़ी थी..इसे कहते हैं पूत के पांव पालने में. पाखी के उज्जवल भविष्य के लिए शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  25. अद्भुत ! इस नन्हीं प्रतिभा के बारे में पढ़कर बहुत कुछ सोचने पर मजबूर. बच्चों का मन मिटटी के लोंदे की भांति होता है, जिसे आप जैसा चाहें आकार दे सकते हैं. प्रेरक पोस्ट. पाखी की सृजनात्मकता को सम्मानित किया गया..सुनकर बड़ा सुखदायी लगा..बधाई और मिलेगी तो मिठाई भी.

    उत्तर देंहटाएं
  26. हमारी बेटी अक्षिता को इस ख़िताब हेतु चुने जाने पर ब्लागोत्सव आयोजन से जुड़े सभी लोगों का ह्रदय से आभार. यह ख़िताब पाखी के लिए लाजवाब और खूबसूरत साबित होगा.

    उत्तर देंहटाएं
  27. पाखी को इस शानदार उपलब्धि पर ढेर सारे चाकलेट, केक और मिठाई.

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top