एक ऐसी लेखिका जो अपने को लेखिका से ज्यादा कलाकार कहलाना पसंद करती है । खुद कुछ नहीं बोलती , बोलती है केवल इनकी कलम -कभी माँ, कभी बेटी, तो कभी पत्नी बनकर .....!
स्मृतियों के आईने में झांककर जब इनकी कलम बोलती है तो पढ़ने बालों के जेहन में तूफ़ान पैदा कर देती हैं , संस्मरण के बहाने इनके शब्द जब रोते हैं तो पढ़ने वालों की आँखों से करुणा और स्नेह की धाराएं फूट पड़ती हैं ....खुद के लिए प्रचार जिन्हें पसंद नहीं ....जो महसूस करती हैं बिना लाग-लपेट के बयान कर देती हैं,आप इसे जो नाम देना चाहें दे दें आपकी मर्जी ....!
जो अख़बारों ,मासिकों तथा आकाशवाणी के लिए तीन भाषाओँ क्रमश:हिंदी,मराठी तथा अंग्रेजी में लिखती हैं . जिनकी ज़्यादातर किताबें मराठी में प्रकाशित हुई है , किन्तु हिंदी ब्लॉग पर सक्रियता अन्य हिंदी भाषी लेखकों से कहीं ज्यादा है ।
जानते हैं कौन हैं वो ?
वो है शमा
यानी शमा कश्यप
ब्लोगोत्सव-२०१० की टीम ने इन्हें इस बार वर्ष की श्रेष्ठ सह लेखिका का खिताब देते हुए लोकसंघर्ष परिकल्पना सम्मान -२०१० से सम्मानित करने का निर्णय लिया है ।

19 comments:

  1. बधाइयां. ऐसे ही समां जलती रहे आप की लेखनी की.

    उत्तर देंहटाएं
  2. वर्ष की श्रेष्ठ सह लेखिका .के खिताब के लिए शमा जी को ..बहुत बहुत बधाई,

    उत्तर देंहटाएं
  3. क्षमा जी को बहुत बहुत बधाइयाँ।

    प्रमोद ताम्बट
    भोपाल

    उत्तर देंहटाएं
  4. शमा जी को ..बहुत बहुत बधाई,

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत-बहुत बधाई एवं हार्दिक शुभकामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  6. शमा जी को सम्मानित कर यह सम्मान स्वयं सम्मानित हुआ है.. आभार..

    उत्तर देंहटाएं
  7. हिंदी लेखन की शमा सदा ऐसे ही रौशन रहे...

    शमा जी को बधाई...

    रवींद्र जी और ब्लॉगोत्सव टीम २०१० का आभार...

    लेकिन इस सम्मान में सह-लेखिका क्यों, लेखक तो हमेशा लेखक ही रहता है...

    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  8. वर्ष की श्रेष्ठ सह लेखिका .के खिताब के लिए शमा जी को ..बहुत बहुत बधाई...!

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत-बहुत बधाई एवं हार्दिक शुभकामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत-बहुत बधाई । शमा जी मुबारक हो...

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top