एक ऐसी लेखिका जिसकी साधना के स्वर पाठकों के मन के सुदूर घाटियों में अन्तर्निहित स्वर को ध्वनित- प्रतिध्वनित करने में पूरी तरह सक्षम है ...!
एक ऐसी लेखिका जिसकी साधना जब सरस्वती की अग्निविना पर सुर साधती है तो साहित्य की अग्नि धाराएं प्रवाहित होने लगती है ...! इन अग्निधाराओं में कहीं अग्नि की आंच धाह मारती है तो कहीं कलुषित परिवेश की कालिमा जलाकर उसके बदले एक खुशहाली से भरे विहान की ललक दिखा जाती है....!
जानते हैं कौन है वो?
वो हैं सूरत (गुजरात) निवासी प्रीती महेता
जिन्हें ब्लोगोत्सव-२०१० की टीम ने वर्ष की श्रेष्ठ परिचर्चा लेखिका का खिताब देते हुए लोकसंघर्ष परिकल्पना सम्मान से सम्मानित करने का निर्णय लिया है !
विस्तृत जानकारी के लिए यहाँ किलिक करें

18 comments:

  1. प्रीति जी, इस उपलब्धि पर बहुत-बहुत बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई
    बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई
    बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई
    बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई
    बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई
    बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई
    बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई
    बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई
    बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई
    बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई
    बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई
    बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्रीति जी को हार्दिक बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  4. प्रीति जी और उनकी कला - दोनों को बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  5. अरे वाह ...बहुत बहुत बधाई प्रीति

    उत्तर देंहटाएं
  6. आप् सभी का तहे दिल से शुक्रिया ..!

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत बहुत बधाई एवं हार्दिक शुभकामनाएँ..

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत बहुत बधाई हो सभी को
    और रवीन्द्र जी आपको साधुवाद इस सब मेहनत के लिए !!

    उत्तर देंहटाएं
  9. प्रीती जी को दिल से बधाई, शुभकानाएं और आपको साधुवाद..

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top