एक ऐसा चिट्ठाकार जिसने मात्र एक वर्ष की हिंदी चिट्ठाकारी में वह श्रेष्ठता हासिल करने में सफलता पायी है जो शायद किसी को वर्षों की साधना के पश्चात भी हासिल नहीं होता !

एक ऐसा चिट्ठाकार जिसकी भाषा बरबस आकर्षित करती है और शब्द चमत्कृत करते हैं ....हिंदी चिट्ठाकारी को नया आयाम देने की दिशा में सक्रीय नए चिट्ठाकारों में ये वेहद समर्पित और उत्साह से परिपूर्ण हैं !

जानते हैं कौन हैं ये ?
ये हैं भोपाल निवासी श्री प्रमोद तांबट

जिन्हें ब्लोगोत्सव की टीम ने हिंदी चिट्ठाकारी से संवंधित आलेख लेखन के लिए वर्ष के श्रेष्ठ लेखक का अलंकरण देते हुए सम्मानित करने का निर्णय लिया है .

विस्तृत जानकारी के लिए यहाँ किलिक करें

23 comments:

  1. प्रमोद जी को बहुत बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  2. प्रमोद जी के मुदित मन से शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्रमोद जी को हार्दिक बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  4. bade bhaai PRAMOD ki lekhani isee tarah chalati rahe, meri badhaaiya aur shubhkamanayen

    उत्तर देंहटाएं
  5. प्रमोद जी को ढेरों बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत बहुत बधाई एवं शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  7. आप सभी शुभाकांक्षियों को बहुत बहुत धन्यवाद।
    लोकसंघर्ष पत्रिका एवं परिकल्पना ब्लागोत्सव 2010 से जुड़े हुए सभी महानुभावों का हृदय से आभार प्रकट करता हूँ, उन्होंने मुझे इस लायक जो समझा।

    प्रमोद ताम्बट
    भोपाल
    www.vyangya.blog.co.in
    http://vyangyalok.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  8. प्रमोद जी ...........बंधाई स्वीकारें .

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top