१३ दिनों के महाराष्ट्र प्रवास के बाद कल यानी २७ अगस्त को मेरी फ्लाईट जैसे ही लखनऊ एयरपोर्ट पर लैंड हुई , मन के किसी कोने से आवाज़ आयी "मुस्कुराईये कि आप लखनऊ में हैं !"
मुम्बई से चलकर सायं ४.३० बजे लखनऊ आया और सीधे एयरपोर्ट से साइंस ब्‍लॉगर्स असोसिएशन के द्वारा आयोजित ब्लॉग लेखन - विज्ञान संचार‘ विषयक कार्यशिविर के उद्घाटन समारोह स्थल गोमतीनगर लखनऊ के लिए प्रस्थान कर गया । हालांकि जब मैं पहुंचा तो कार्यक्रम समापन के सन्निकट था और मैं भी कुछ थका-थका सा महसूस कर रहा था इसलिए जाकिर भाई और अरविन्द जी से विदा लेकर मैं अपने निवास की ओर प्रस्थान कर गया !
अच्छा लगा यह देखकर कि सबकुछ सही दिशा में और भव्यता के साथ संपन्न कराया जा रहा है, इसके लिए श्री अरविन्द मिश्र जी और श्री जाकिर अली जी को कोटिश: बधाईयाँ !
आशा है यह आयोजन हिंदी ब्लोगिंग को एक नया आयाम देने में सहायक सिद्ध होगा, इस कार्यक्रम से जुड़े सभी साथियों को मेरी अनंत आत्मिक शुभकामनाएं और एक नयी शुरुआत करने के लिए बधाईयाँ !

बहुत दिनों के बाद घर-परिवार-बच्चों से मुखातिव हूँ , व्यस्तता ज्यादा है इसलिए आज सिर्फ इतना ही ..... इस कार्यशाला के पल-पल की गतिविधियों से आप भी रूबरू हों -
साइंस ब्‍लॉगर्स असोसिएशन और तस्लीम पर

3 comments:

  1. वही मैं सोच रहा था, कि आपने मेरे द्वारा भेजे गए मेल का जवाब क्यों नहीं दिया . आज पता चला कि आप तो महाराष्ट्र प्रवास में थे . खैर स्वागत है आपका लखनऊ में !

    उत्तर देंहटाएं
  2. कार्यशाला से संबंधित जानकारी देने हेतु आभार

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपके व्‍यस्‍त दौरे के अन्‍तर्गत भी हमें कार्यक्रम की जानकारी मिली, आभार ।

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top