अगली सदी के हैं ये ख़्वाब बेहतरीन
अपाहिजों के खेल में अंधे तमाशबीन

तारीफ़ यूँ करेंगे गूंगे भी बेहिसाब-
संसद करेगा पागलों की बात पर यकीन

भैंस से होगी बड़ी न अक्ल की दौलत-
भटकेंगे हुनर वाले अपनी ही सरजमीन

बनायेंगे यक़ीनन ऊँची ईमारतें पर-
होंगे न पास उनके आकाश या जमीन

इस मुल्क के मजदूर भी बच्चों के बास्ते-
पानी का घूँट पीकर बन जायेंगे मशीन

होंगे वही विधायक मंत्री के दावेदार-
जनता को भैंस मानकर बजायेंगे जो बीन
() रवीन्द्र प्रभात

8 comments:

  1. लाजबाव व्यंग्य रचना , यही है कड़वा सच जिसका आंशिक रूप अभी से दिखाई देने लगा है !

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत बढ़िया व्यंग्य, बधाईयाँ !

    उत्तर देंहटाएं
  3. व्यंजल हो तो ऐसा, हम तो मस्त हो गए भैया !

    उत्तर देंहटाएं
  4. बनायेंगे यक़ीनन ऊँची ईमारतें पर-
    होंगे न पास उनके आकाश या जमीन

    इस मुल्क के मजदूर भी बच्चों के बास्ते-
    पानी का घूँट पीकर बन जायेंगे मशीन
    बढिया रचना व्यंग नही ये एक कडवी सच्चाई है। धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top