ग़ज़ल :
किसी दरिया,किसी मझदार से नफरत नहीं करता
सही तैराक हो तो धार से नफरत नहीं करता ।

यक़ीनन शायरी का इल्म जिसके पास होता वह -
किसी नुक्कड़,किसी किरदार से नफरत नहीं करता।

परिन्दों की तरह जिसने गुजारी जिन्दगी अपनी -
गुलाबों के सफ़र में खार से नफरत नहीं करता ।

चलो अच्छा हुआ तूने बहारों को नहीं समझा -
नहीं तो इस क़दर पतझार से नफरत नहीं करता।

हिम्मत बुलंद अज्म का पैकर जो होता है वही -
किसी के धर्म व त्यौहार से नफ़रत नहीं करता ।

फटे कपड़ों से तेरी आबरू ग़र झांकती होती-
मियाँ "प्रभात" तू बीमार से नफरत नहीं करता ।

* रवीन्द्र प्रभात

13 comments:

  1. अच्छी पंक्तिया लिखी है ........

    यहाँ भी आये और अपनी बात कहे :-
    क्यों बाँट रहे है ये छोटे शब्द समाज को ...?

    उत्तर देंहटाएं
  2. चलो अच्छा हुआ तूने बहारों को नहीं समझा -
    नहीं तो इस क़दर पतझार से नफरत नहीं करता।

    अच्छी पंक्तिया लिखी है ........

    यहाँ भी आये और अपनी बात कहे :-
    क्यों बाँट रहे है ये छोटे शब्द समाज को ...?

    उत्तर देंहटाएं
  3. परिन्दों की तरह जिसने गुजारी जिन्दगी अपनी -
    गुलाबों के सफ़र में खार से नफरत नहीं करता ।

    बहुत अर्थपूर्ण अभिव्यक्ति. आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  4. हिम्मत बुलंद अज्म का पैकर जो होता है वही -
    किसी के धर्म व त्यौहार से नफ़रत नहीं करता ।

    बहुत ही सुन्‍दर शब्‍द रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. अर्थपूर्ण सुन्‍दर अभिव्यक्ति. आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  6. बेहतरीन ग़ज़ल , हर एक शेर उम्दा और प्रासंगिक भी !

    उत्तर देंहटाएं
  7. यक़ीनन शायरी की इल्म जिसके पास होती वह -
    किसी नुक्कड़,किसी किरदार से नफरत नहीं करता।
    sahi hai

    उत्तर देंहटाएं
  8. आपकी ग़ज़ल के शब्दों ने सार्थक अभिव्यक्ति दी है ... सुंदर रचना।

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top