कुछ लोग ऐसे होते हैं जो स्वयं कविता में नहीं जीते मगर उनमें कविता जीती है, कुछ लोग ऐसे होते हैं जो स्वयं कविता में जीते हैं मगर कविता उनमें नहीं जीती कुछ ऐसे लोग भी होते है जो स्वयं कविता में तो जीते हीं हैं कविता भी उनमें पूरे इत्मीनान के साथ जीती है, ऐसा ही एक नाम है कविता रावत ! जैसा नाम वैसे गुण अर्थात नाम और गुणधर्म दोनों एक जैसे ! कविता की कविता की सबसे बड़ी खासियत यह है कि वह समसामयिक होती है और सच के इर्द-गिर्द चक्कर काटती हुई उपसंहार पर जाकर ठहर जाती है ! उन्होंने अपनी दो कविताएँ विशेष रूप से परिकल्पना के लिए भेजीं हैं, आप पढ़ें और अपने मित्रों को भी पढ़वायें , क्योंकि इन दोनों कविताओं में एक सुखद सन्देश निहित है जिसे आत्मसात कर हम एक सुन्दर और खुशहाल सह-अस्तित्व की परिकल्पना को मूर्तरूप दे सकते हैं ........!
() रवीन्द्र प्रभात




रखना इनका पूरा ध्यान!

बीडी-सिगरेट, दारू, गुटका-पान
आज इससे बढ़ता मान-सम्मान
दाल-रोटी की चिंता बाद में करना भैया
पहले रखना इनका पूरा ध्यान!
मल-मल कर गुटका मुंह में डालकर
हुए हम चिंता मुक्त हाथ झाड़कर
जब सर्वसुलभ वस्तु अनमोल बनी यह
फिर क्यों छोड़े? क्या घर, क्या दफ्तर!
हम चले सफ़र को बस में बैठकर
जब रुकी बस लाये हम बीडी-गुटका खरीदकर
सड़क अपनी चलते-फिरते सब लोग अपने
फिर काहे की चिंता? गर थूक दे इधर-उधर
सुना था रामराज में बही दूध की नदियाँ
और कृष्णराज में मक्खन-घी खूब मिला
पर आज गाँव-शहर में बहती दारु की नदियाँ
देख गटक दो घूंट फतह कर लो हर किला
अमीर-गरीब, पढ़ा-लिखा, अनपढ़ यहाँ कोई भेद नहीं
सब मिल बैठ बड़े मजे से खा-पीकर खूब रंग जमाते!
बिना खाए-पिए गाड़ी आगे कैसे बढ़ेगी भैया!
गली-सड़क, मोहल्ले, घर-भर यही बतियाते!



गाँव हो या शहर आज जब भी कोई घटना, दुर्घटना या सामाजिक सरोकार से सम्बंधित कुछ अहम् बातें सामने आती है तो अक्सर बहुत से लोगों को बड़े सहजता से यह कहते सुनकर कि 'यह सब तो चलता रहता है' मन को विचलित कर सोचने पर मजबूर करता है कि क्या यह किसी सभ्य समाज की त्रासदी नहीं तो और क्या?..... देखिये आस-पास की कुछ झलकियाँ ........ आप क्या कहना चाहेंगे................

सब चलता रहता है!

दिन-रात की किचकिच, पिटपिट से तंग भागी बीबी
वह अपना दुखड़ा सबको सुनाता फिरता है
'चिंता मत कर आ जायेगी एक दिन घर'
पास बैठ कोई अपना समझाने लगता है
ऊँच-नीच की चलती दो चार बातें
फिर होता गला तर, गम धुएं में उड़ता है
है अच्छा दस्तूर गम गफलत का
यह सब चलता रहता है!

जब संत-स्वामी खूब रंग जमाकर
खबरी चैनलों पर आकर छा जातें हैं
तब जनता, सरकार हमारी बड़ी श्रद्धालु
समझ चमत्कार बड़े जतन से देखते हैं
'कब समझेगें चमत्कार चक्कर इनका'
देख करतूत जब कोई कुछ कहना चाहता है
तो पास बैठा उसी को आंख दिखाता?'
यह सब चलता रहता है!

जब दबंगों ने बेक़सूर दलित बुजुर्ग को
पीट-पीट कर सरेआम सारे गाँव घुमाया
तब किसी ने अमानवीय कृत्य कह पला झाड़ा
तो किसी ने महज राजनीतिक हाथकंडा बताया
बात न बिगड़े उठ खड़ा कोई समझदार
घुड़क कर सबको सब समझा देता है
'किसी ने न कुछ देखा न सुना'
यह सब चलता रहता है!

छोटी सी जिंदगी में खूब मौज-मस्ती कर ली
कच्ची-पक्की जैसे मिली सब हजम कर ली
पर जब फेफड़ों ने फडकना बंद किया
तो कमबख्त शरीर ने भी साथ छोड़ दिया
देख हश्र हर दिन खाने-पीने वाला साथी
इसे 'ऊपर वाले की मर्जी' घोषित करता है
'ख़ुशी- गम की अचूक दवा बनी सोमरस'?
यह सब चलता रहता है!

किसी को रुखी-सूखी कौर भी हजम नहीं यहाँ
पर कोई चट लाखों-करोड़ों हजम कर जाता है
'नहीं नसीब में जिसके तो कहाँ से मिलेगा भैया'?
यह सब चलता रहता है!

पढने-लिखने घर से निकला बन-ठन लाड़ला
जाकर पार्क, इन्टरनेट में डेटिंग-चेटिंग करता है!
देख फुर्सत किसको क्या पड़ी समझा दे भैया'?
यह सब चलता रहता है!

घरेलू हिंसा, दहेज़, ज्यादती, अपमान, भुखमरी, गुंडागर्दी
कमी कहाँ? जिनके मन हरदम यह सब रमता है
'चलो छोड़ो दुनियाभर की बेमतलब चिकचिक'!
यह सब तो चलता रहता है!
- कविता रावत
http://kavitarawatbpl.blogspot.com/

11 comments:

  1. वाह वाह ...बहुत ही जानदार और शानदार अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  2. कविता जी की दोनों कवितायें सुन्दर, सार्थक और समसामयक है , पढ़कर आनंद आ गया !

    उत्तर देंहटाएं
  3. दोनों कवितायें सारगर्भित हैं और सामाजिक सरोकार से जुडी हुयी है !

    उत्तर देंहटाएं
  4. "पढने-लिखने घर से निकला बन-ठन लाड़ला
    जाकर पार्क, इन्टरनेट में डेटिंग-चेटिंग करता है!
    देख फुर्सत किसको क्या पड़ी समझा दे भैया'?
    यह सब चलता रहता है!"

    शानदार अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  5. कविता हो तो ऐसी, पूर्णत: प्रासंगिक !

    उत्तर देंहटाएं
  6. कविता जी, वाह आपने क्या खूब लिखा है ...बहुत सुन्दर !

    उत्तर देंहटाएं
  7. bahut khub kavita ji. apki samajik kriyakalapo per lekhe kavita prasansniya hai.

    उत्तर देंहटाएं
  8. मैं तो पहले से ही कविता जी की फैन हूँ। सामाजिक सरोकारों पर उनकी पैनी दृष्टी और संवेदनायें प्रभावित करती हैं। कविता जी को बधाई आपका धन्यवाद उनका परिचय देने के लिये और रचनायें पढवाने के लिये।

    उत्तर देंहटाएं
  9. कविता जी निरंतर प्रगति कर रही है । इन्हे शिल्प को थोडा और सँवारना ज़रूरी है ।

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top