दो गज़लें

(एक)

है अचंभित हवा ये पहल देखकर
ताश के जो बने हैं महल देखकर ।

कंपकंपी सी हुई और शहर रो पडा-
इस जमाने का रद्दोबदल देखकर ।

मैंने समझा शहर में तबाही हुई-
अपने बेटों की आँखें सजल देखकर ।

पेंड की आड़ में था खडा आदमी-
भेड़ियों के गए दिल दहल देखकर ।

दुश्मनों की तरफदारी करने लगे-
दोस्तों की कमी आज़कल देखकर ।

बज़्म में कुछ सुना न सका है प्रभात-
आपके पास अपनी ग़ज़ल देखकर ।

(दो)

बनाया था मैंने महल तौबा-तौबा
कि मैं ही हुआ बे दखल तौबा-तौबा ।

जले मेरा घर मेरे ही सामने मैं-
तमाशा बना आजकल तौबा-तौबा ।

ये ग़ालिब के जुमले से तुमने चुराए-
जिगर की जमीं पर ग़ज़ल तौबा-तौबा ।

अदब के पुजारी हो लेकिन नहीं क्यों-
वतन के लिए एक पल तौबा-तौबा ।

वो मैयत में आये मगर इस अदा से-
नज़र उनकी थी न सजल तौबा- तौबा ।

अमन के लिए तुम ही प्रभात अब-
करते हो क्यूँ न पहल तौबा-तौबा ।
() रवीन्द्र प्रभात

11 comments:

  1. दुश्मनों की तरफदारी करने लगे-
    दोस्तों की कमी आज़कल देखकर.nice

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही खुबसूरत है यह ग़ज़ल, बधाईयाँ !

    उत्तर देंहटाएं
  3. बेहतरीन ग़ज़ल, बधाईयाँ !

    उत्तर देंहटाएं
  4. क्या बात है, खुबसूरत गज़ल, बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  5. पेंड की आड़ में था खडा आदमी-
    भेड़ियों के गए दिल दहल देखकर ।

    दोनो ही गज़ल शानदार हैं और ये शेर तो बहुत ही पसन्द आया।

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपकी गज़लें समसामयिक एवम दिल को छूने वाली हैं ....ईश्वर से प्रार्थना रहेगी की आप सदा उर्जावान रहें .....

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top