कल दीपावली का त्यौहार था, मैंने अपनी बड़ी बिटिया उर्विजा से पूछा कि पटाखे नहीं फोड़ने हैं क्या ? उसने तपाक से कहा पापा ! पटाखे फोड़कर रुपयों में आग क्यूँ लगाऊँ , सोच रही हूँ कि मिटटी के दीयों को से घर को ऐसा सजाऊ कि लोग दाँतों तले उंगली काट ले , कैसा रहेगा ?

मैंने कहा - बड़ी हो गयी हो , इसीलिए अच्छी-अच्छी बातें करने लगी हो .....ठीक है तुम वही करो जो तुम्हे अच्छा लगे , इतना कहकर मैं वहां से उठा और विस्तर पर लेट गया ! पर नींद कहाँ आने वाली थी , उसकी बातें जेहन में मतले का रूप ले चुकी थी - " पटाखे फोड़कर क्यों नोट जलाएं , माटी के दीयों से घर सजाएं "

फिर क्या था चंद घंटों के जद्दोजहद के बाद आखिर जेहन की कोख से फूट पडी एक खुबसूरत ग़ज़ल, जिसे मैं आपसे शेयर कर रहा हूँ -

(ग़ज़ल )
पटाखे फोड़कर क्यूं नोट जलाएं बाबू जी
मिटटी के दीयों से घर सजाएं बाबू जी ।

हमारे गाँव की पगडंडियाँ मासूम है-
इसे न राजपथ से आप मिलाएं बाबू जी ।

दिखाबों के भयाबह से हमें लगता है डर-
मुआं मंहगाई यह आंसू रुलाए बाबू जी ।

गरीबों को मिले दो जून की रोटी बहुत है-
उन्हें बस आप कर्जों से बचाएं बाबू जी ।

जहां पर टूटते संबंध प्यालों की तरह-
वहां हम किसकी रोएं, किसकी गाएं बाबू जी ।

प्रभात के किस्से सुनाये स्याह पन्नों पर-
ऐसे हमदर्द को ना आजमाएं बाबू जी ।
() रवीन्द्र प्रभात

11 comments:

  1. यह ग़ज़ल शानदार ही नहीं जानदार भी है, बहुत-बहुत बधाई एक खुबसूरत ग़ज़ल के लिए !

    उत्तर देंहटाएं
  2. दीपावली पर्व की आपको ढेरों मंगलकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत ही सुन्‍दर पंक्तियों को समेटे बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. सार्थक अभिव्‍यक्ति ...दीपावली पर्व की आपको ढेरों मंगलकामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह , वाह , वाह ! क्या सार्थक बात कही है बिटिया ने ।

    काश कि सभी बच्चे ऐसा सोच सकें । बच्चे क्या , यहाँ तो बाप भी नहीं सोचते ।
    बहुत सुन्दर ग़ज़ल बना दी है आपने इस विषय पर । दिल से बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. जहां पर टूटते संबंध प्यालों की तरह-
    वहां हम किसकी रोएं, किसकी गाएं बाबू जी ।
    satya hai!
    bahut sundar rachna!!!

    उत्तर देंहटाएं
  7. अपने परिवेश में मौजूद अंतर्विरोधों के झंझावातों से जूझते संवेदनशील मन की एक बेहद संवेदनशील और मर्मस्पर्शी प्रस्तुति. आभार.
    सादर,
    डोरोथी.

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top