ऊपर :
2 जनवरी 2011 को जयपुर से प्रकाशित डेली न्यूज़ में परिकल्पना-अमरेन्द्र प्रकरण
सहित पिछले वर्ष की हिन्दी ब्लॉगिंग का जायजा लेता सुश्री प्रतिभा कुशवाहा का  आलेख.......
=================================================================
नीचे :
लोकसंघर्ष  पर पुनर्प्रकाशित परिकल्पना ब्लॉग विश्लेषण-२०१० की चर्चा स्वाभिमान टाईम्स ( 9 जनवरी 2011 को स्वाभिमान टाईम्स के नियमित स्तंभ ‘अन्तर्जाल’ ) में .....  
स्वाभिमान टाईम्स में लोक संघर्ष
बस कुछ ही पलों में हम उपस्थित होंगे ब्लॉग विश्लेषण की अगली कड़ी के साथ , तबतक  चलते-चलते एक मुक्तक सुन लीजिये -

नकारात्मकता इसकदर यदि बेपरवाह नहीं होती ,
तो सकारात्मकता को पहचान की चाह नहीं होती 
यक़ीनन वे  आ जाते हाशिये पर एक दिन खुद ही -
जिन्हें अपनी इज्जत की यूँ  परवाह नहीं होती !

() रवीन्द्र प्रभात

15 comments:

  1. परिकल्पना बहुत बड़ा काम कर रहा है। यह तो अभी आरंभ है, इस के तो अभी बहुत चर्चे होने शेष हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी परिकल्पना नित नयी उंचाईयां छू रही है

    आपको बहुत बहुत बधाई और शुभ कामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  3. आज जब आपकी प्रतिभा और व्यक्तित्व का डंका पूरी दुनिया में बज रहा है और आपके विश्लेषण को चुनौती देने वाले क्षुद्र मानसिकता के लोग दुम दबाके बिल में घुस चुके हैं, ऐसे में प्रिंट मीडिया में विश्लेषण की चर्चा उनके गाल पर तमाचे से कम नहीं है .....आपके व्यक्तित्व का आकर्षण मैंने काफी करीब से महसूस किया है, इसलिए आप तो मेरे लिए प्रात: स्मरणीय हैं !

    आपके व्यक्तित्व को पुन: नमन !

    उत्तर देंहटाएं
  4. अरे ये तो एक सुखद समाचार है, आँखों को सुख हुआ यह सब देखकर, अच्छा लगा !

    उत्तर देंहटाएं
  5. अरे ये तो एक सुखद समाचार है, आँखों को सुख हुआ यह सब देखकर, अच्छा लगा !

    उत्तर देंहटाएं
  6. बधाईयाँ !

    आपने विल्कुल सही कहा है कि-

    " नकारात्मकता इसकदर यदि बेपरवाह नहीं होती ,
    तो सकारात्मकता को पहचान की चाह नहीं होती
    यक़ीनन वे आ जाते हाशिये पर एक दिन खुद ही -
    जिन्हें अपनी इज्जत की यूँ परवाह नहीं होती !"

    उत्तर देंहटाएं
  7. bahut-bahut badhai

    pranam.

    @m.k pandeyji,
    jinko aap 'bar-bar tamacha' laga rahe hain....adarniye prabhatji ne pichle post par unke liye apko kuch samjhaish diya hai...kuch unka khayal rakhiye....aur haan porfile me apna desi photo lagaiye..birodhi bhi pasand karne lagenge.

    pranam.

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top