इस उत्सव में साधारण क्या है .... !!! मुझे तो माँ सरस्वती के संग रहने का आनंद मिल रहा है . मैं तो एक डुबकी हर रोज लगाता हूँ और असली मोती लेकर आता हूँ . मैं तो हँस बन गया हूँ , मोतियों के खान से गुजर रहा हूँ . आज क्षणिकाओं के संग अविनाश चन्द्र को लेकर आया हूँ , ब्लॉग http://penavinash.blogspot.com/ .... मैं तो विस्मित हूँ ही , अब आपकी बारी -

क्षणिकाएं...(बीज..)

क्लेश....
आत्मा में तेरी,
या अंतर में मेरे.
संदेह का बीज,
कहीं भी पनपे.
फलित तो सिर्फ,
क्लेश ही होगा.

नजर....
तुम्हारी भीनी सी,
मुस्कराहट के बीज.
बोये थे कभी,
अपनी आँखों में.
फसल अब तक,
लहलहाती है.
मुझे सातवें दशक भी,
नंबर नहीं चढ़ा.

लवण...
पिता बहा पसीना,
ले आते हैं रोटी.
वरना माएं बिलख,
कर रो देती हैं.
दोनों ही सूरतों में,
बच्चों को मिल जाता है,
लवण..

फसल काट लो...
तुम्हारे दिए हुए,
शब्दों की फसल,
तैयार हो गयी है.
आओ काट लें,
प्रीत की फलियाँ.
पक गए तो,
बनेंगे नासूर.

याद....
तुम बेशक ना आओ,
इस बार भी.
हवा से भिजवा देना पर,
एहसास का एक बीज.
पनपें तो खिलें कम से कम,
गुलमोहर तुम्हारी यादों के.

भटकटेयाँ....
जाने कौन से,
पंछी लाते हैं.
बीज भटकटेयाँ के,
मिलते ही नहीं.
तुम भी कहाँ,
मिलते हो कभी.
याद तुम्हारी यूँ,
उगी हर ओर है.

स्वभाव...
उसे स्नेह सारे बीजों से,
अंतर से अनजान धरा है.
तेरा मेरा करके मरना,
अपनी ही बस परम्परा है.

कंटीली बाड़...
पिता की रोक-टोक,
जेनेरेशन गैप नहीं.
खेत किनारे कंटीली बाड़,
रखने वाला कृषक,
बीजों से बहुत,
प्रेम करता है.

माँ....
"इमली के बीज,
मत खा लेना.
पेट में वरना,
पेड़ निकल आएगा."
नहीं माँ, आत्मा ने,
आशीष के बीज खाए.
देखो ना श्रद्धा के,
कितने वृक्ष निकल आए.

उर्वरा...
डरना मत शम्भू,
अबकी रक्तबीज से.
हमने पूरी धरा,
निचोड़ ली है.
अब कोई बीज,
हरा नहीं होता.



अविनाश चन्द्र 
http://penavinash.blogspot.com/ .










==================================================================
अविनाश चन्द्र की कविताओं के बाद आईए चलते हैं उत्सव के उन्नीसवें दिन प्रसारित होने वाले कार्यक्रमों की ओर :


moon

रात चाँद खुश था मुस्कुरा कर मिला….

चाँद! ख़्वाबों में एक आस जगा कर मिला रात चाँद खुश था मुस्कुरा कर मिला गम-ए-दिल दवा बनी दीदार-ए-यार...
21-kasab-300

अजमल कसाब का जिहादियों के नाम एक पत्र

प्यारे जिहादी भाइयो सादर विस्फोटस्ते यहाँ मैं खैरियत से हूँ. आप सब कैसे हैं. अब्बा तालिबान और...
14cart-4

अहोभाग्य, बिजली गुल !

व्यंग्य बिजली विभाग के बड़े उपकार है हम मर्दो पर। अगर बिजली गुल नही होती तो प्रेम के परवानों...
akath-kahani-prem-ki-september-2

कबीर अपने विचारों में कॉस्मोपोलिटन थे ।

मूल्यांकन प्रतिरोध की स्थिति में हम सब कबीर को क्यों याद करते हैं? क्या कबीर आज भी हमारे दैनिक...
images (1)

चुगलखोरी नहीं आसान, इतना समझ लीजै

व्यंग्य साथियों …पिछले दिनों चुगलखोरी और महिलाओं को लेकर एक कार्टून हमारी आँखों के सामने...
Vinay-prajapati

Adding Documents in Blogger Post (ब्लॉगर पोस्ट में डॉक्यूमेंट(doc, ppt, pdf, etc.) जोड़ना सीखें)

यदि आपके पास कोई माइक्रोसॉफ्ट आफिस डॉक्यूमेंट (doc, docx, ppt, pptx etc.) या पी.डी.एफ़. (PDF)  फ़ाइल है और उसे अपने...
कहीं जाईयेगा मत, मिलते हैं एक अल्प विराम के बाद ....

23 comments:

  1. उत्कृष्ट लेखन ...अपनी भावनाओं को इन्द्रधनुषीय कुची से उकेरते हैं ...अविनाश जी ..
    आज परिकल्पना पर इनकी रचनाएँ पढ़कर बहुत ख़ुशी हुई ...
    आभार परिकल्पना का और ..अनेक शुभकामनायें ..अविनाश जी ..

    उत्तर देंहटाएं
  2. सभी क्षणिकाएं ...एक से बढ़कर एक हैं इस बेहतरीन प्रस्‍तुति के लिये आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. याद....
    तुम बेशक ना आओ,
    इस बार भी.
    हवा से भिजवा देना पर,
    एहसास का एक बीज.
    पनपें तो खिलें कम से कम,
    गुलमोहर तुम्हारी यादों के.

    वाह बहुत खूब सभी बहुत बेहतरीन है ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपकी किसी रचना की हलचल है ,शनिवार (२३-०७-११)को नयी-पुरानी हलचल पर ...!!कृपया आयें और अपने सुझावों से हमें अनुग्रहित करें ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. आज परिकल्पना पर अविनाश जी की रचनाएँ पढ़कर बहुत ख़ुशी हुई ...
    परिकल्पना का आभार और बहुत सारी शुभकामनायें....

    उत्तर देंहटाएं
  6. शानदार से भी परे है परिकल्पना की प्रस्तुति, अनुपम,अतुलनीय और अद्वितीय, आप सभी को एक सफल उत्सव की शुभकामनाएं !

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह बहुत खूब,एक से बढ़कर एक...आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  8. बेहतर पोस्ट,अच्छी प्रस्तुति....इन रचनाओं को पढ़वाने के लिए आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  9. तुम्हारी भीनी सी,
    मुस्कराहट के बीज.
    बोये थे कभी,
    अपनी आँखों में.
    फसल अब तक,
    लहलहाती है.
    मुझे सातवें दशक भी,
    नंबर नहीं चढ़ा.

    बहुत खूब...

    उत्तर देंहटाएं
  10. अविनाश जी की क्षणिकाओं ने फिर से बौद्धिक आनंद दिया.

    उत्तर देंहटाएं
  11. दिनांक गलत होने के कारण फिर से सूचित कर रही हूँ :)


    आज 22- 07- 2011 को आपकी पोस्ट की चर्चा यहाँ भी है .....


    ...आज के कुछ खास चिट्ठे ...आपकी नज़र .तेताला पर
    ____________________________________

    उत्तर देंहटाएं
  12. अद्भुत क्षणिकाएं हैं अविनाश जी की...
    विचारोत्तेजक...
    सादर....

    उत्तर देंहटाएं
  13. बीज पर लिखी सारी क्षणिकाएँ एक से बढ़ कर एक ...

    उत्तर देंहटाएं
  14. अद्भुत !इतनी गजब की क्षणिकाएं मेने आज तक नहीं पढ़ी क्या बात हैं

    उत्तर देंहटाएं
  15. सभी क्षणिकायें एक से बढ कर एक हैं अविनाश जी को बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  16. सभी क्षणिकायें एक से बढ कर एक हैं अविनाश जी की …………बेहतरीन प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  17. सभी क्षणिकाएँ खूबसूरत भाव लिए...

    उत्तर देंहटाएं
  18. सभी क्षणिकाएं बहुत उम्दा....

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top