क्षितिज की बाहें थामे , सूर्योदय की लालिमा संग जागरण का सूत्र लिए बच्चों के लिए आई हैं वंदना .... हाँ भाई , बच्चे उदास हो चले थे , उत्सव में सारी कवितायेँ बड़े लोगों के लिए हैं . मुझे लगा कोई जादुई छड़ी घुमानी होगी बच्चों की मुस्कुराहट के लिए . तो हींग टिंग झट बोल चिंग चिंग फाक खुल जारे ताले झट से फटाक ...... ये लो बच्चों अपनी वंदना दीदी को और सुनो .





माँ परी

माँ ! मैंने देखी एक परी
वो बिलकुल तेरे जैसी थी

तुम जैसी ही प्यारी प्यारी
उजली उजली गोरी गोरी
हाथों में फूलों की डाली
प्यार बहुत सा करने वाली ।

कभी ना लड़ना हिलमिल रहना
सही राह पर निर्भय बढ़ना
प्रेम देश से अपने करना
परियों की रानी का कहना ।

हंसी फूल से भी कोमल
पंख जैसे तेरा आँचल
बाल घनेरे जैसे काजल
तपती धूप में छाये बादल ।

मेरी खातिर लोरी गाई
चोकलेट भी दिलवाई थी
माँ!सच कहना क्या तुम ही ,
मेरे सपने में आई थी !

गुब्बारे वाला

माँ !देखो गुब्बारे वाला
रंगों के फव्वारे वाला
चुनमुन ,ननमुन सभी को भाया
सबके लिए ही खुशियाँ लाया
गुब्बारे में ककड़ी खीरे
कोई तोता मोर बनाया
किसी में हलकी गैस भरे
किसी में केवल हवा भरे
लाया है रंगों की गठरी
फरफर फुर फुर सभी उड़े
वो समझे मेहनत की भाषा
दिन भर घूमे भूखा-प्यासा
तन पर चिथड़े पैर है नंगे
रखता होगा हमसे आशा
एक गुब्बारा मुझे दिलवा दो
एक दिलवा दो छुटकू को
जैसे खुश होंगे दोनों हम
वैसे ही खुश होगा वो !

जुगनू

देखो तो धरती पर तारे
कितने सारे प्यारे प्यारे
तुम मेरे घर रहने आये
साथ नहीं क्यों चाँद को लाये
आज कहीं तुम रस्ता भूले
पास इतने कि हम भी छूलें
आसमां से उतर के आये
चम चम करते मन को भाए
दौडूँ इनको हाथ में ले लूं
या माँ के आँचल में भर लूं
वापस ना ये जाने पाए
माचिस की इक डिबिया लायें
नाना बोले हंसकर चुन्नू !
क्या पहले नहीं देखे जुगनू !
धरती पर जो दिखते तारे
ये जुगनू कहलाते प्यारे ।

ऊँट और पहाड़

आया ऊँट पहाड़ के नीचे
घूम के देखा आगे-पीछे
देखी पर्वत की ऊँचाई
ऊँट रह गया बस दम खींचे

उफ़ ! तौबा यह बहुत बड़ा है
कैसे सीधा अकड़ खड़ा है
कोई इसको झुका न पाए
इसी वजह से तना पड़ा है

तभी दिखा पौधा नन्हा सा
गिरि-शिखर पर इतराता था
ऊंचा होकर पर्वत से वो
मस्त झूमता लहराता था

फिर तो उसने जुगत भिड़ाई
चढ़ पहाड़ फोटो खिंचवाई
हिम्मत से क़द बढ़ जाता है
बात पते की उसने पाई

वंदना सिंह
http://vandana-nanhepakhi.blogspot.com/
=====================================================================

आज केवल वन्दना ही नहीं लेकर आई है बच्चों की कवितायें, एक कहानी "नाश्ते से पहले" लेकर आये हैं दादा जी यानी मुद्राराक्षस जी, बच्चों जानते हो इनका नाम मुद्रा राक्षस कैसे पडा ? मैं बताता हूँ ये जब स्नातक के छात्र थे तब इन्होने उस समय के साहित्यिक विमर्श को लेकर एक बढ़िया आलेख लिखा और छपने के लिए लखनऊ से निकालने वाली एक पत्रिका के संपादक को भेज दिया . संपादक को जब इस बात की जानकारी हुयी कि गंभीर साहित्यिक विमर्श को मुद्दे के रूप में उठाने वाला यह उत्कृष्ट आलेख एक छात्र का है जिसका नाम सुभाष वर्मा है तो वह अवाक्क रह गया और मुद्रा जी के पास यह प्रस्ताव भेजा कि यदि यह आलेख तुम्हारे नाम से प्रकाशित होगा तो यह गंभीर वहास का मुद्दा नहीं बन पायेगा, इसे हम उपनाम से प्रकाशित करेंगे...मुद्रा जी की कभी कोई रचना किसी भी पत्रिका में प्रकाशित नहीं हुयी थी इसलिए उन्होंने अपनी सहमति दे दी....आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि इस आलेख के प्रकाशन से अज्ञेय सहित कई प्रतिष्ठित साहित्यकारों की नींद उड़नछू हो गयी....लोगों को लगा कि मुद्राराक्षस के नाम से कोई बड़े साहित्यकार ने यह लेख लिखा होगा. यह आलेख उससमय सुर्ख़ियों में लगातार बना रहा...भोपाल से प्रकाशित एक पत्रिका के संपादक ने मुद्रा नाम के इस लेखक को ढूढ़ निकाला और अपने यहाँ सहायक संपादक की नौकरी दे दी ! 

हैं न मजेदार व्यक्तित्व के मालिक हमारे मुद्रा जी ?
तो आईये उनकी कहानी के साथ-साथ पढ़ते हैं कुछ और महत्वपूर्ण हस्ताक्षरों को :


hasya

हरिहर झा की दो हास्य कविताएँ


मायके में मायके में खुश रहना चिन्ता मेरी मत करना भाभी तेवर दिखलाये तो बिल्कुल ना डरना ननद बनी...
Kursi

कृष्ण कुमार यादव की तीन कविताएँ



भ्रूण हत्या वह कोस रही है अपनी कोख को जिसने एक मृत बच्चीे को जन्म दिया कितने सपने देखे थे उसने अपने...
The_hiding_sun_by_realityDream

अरुण चन्द्र रॉय की दो कविताएँ



पृथ्वी के गर्भ में इन दिनों पृथ्वी पर नहीं इसके गर्भ में होने सा लग रहा है मनु को कोई द्वन्द...
Sant-Kabir-Das-1990 (1)

चुभ-चुभ कर भीतर चुभे, ऐसे कहे कबीर.



महाभारत काल में माँ के द्वारा त्यागे जाने और फिर अधिरथ द्वारा पाले जाने वाले कर्ण ने जैसे उस...
love at sunset oil painting

राकेश खंडेलवाल के दो गीत



बस इतना विश्वास बहुत है तम की सत्ता से लड़ने को, हाथों में मशाल हो न हो एक दीप है साथ हमारे बस इतना...
Mudra-Rakshas-Sanklit-Kahaniyan_m

बाल कहानी:नाश्ते से पहले



सुबह जब सीता नाश्ता करने बैठी तो उसने देखा कि उसका बाबा हँसिया लेकर कहीं बाहर जा रहा है। ताज्जुब...
baba

स्वामी अनंत बोध कितनी से सीधीबात



वेबसाईट “विश्वकल्याण साधानायातन ” सनातन धारा फ़ाउंडेशनपू्ज्य महाराज श्रीश्री यंत्र मंदिरअनंत...


इसी के साथ आज के समस्त कार्यक्रमों को हम संपन्न कर रहे हैं फिर मिलेंगे परसों यानी शुक्रवार को सुबह ११ बजे परिकल्पना पर,तबतक के लिए शुभ विदा !

13 comments:

  1. बहुत ही सुन्दर बाल कवितायें हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  2. इन बाल रचनाओं के साथ ..आप बच्‍चों की मुस्‍कराहट ले ही आये परिकल्‍पना पर ....बहुत ही बढि़या ...।

    उत्तर देंहटाएं
  3. वन्दना जी की कवितायें सभी अच्छी है यानी

    अच्छी और सच्ची अभिव्यक्ति है, आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  4. वन्दना जी की कवितायें सभी अच्छी है यानी

    अच्छी और सच्ची अभिव्यक्ति है, आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  5. सचमुच सारी कवितायें जादू की छडी है, बधाईयाँ !

    उत्तर देंहटाएं
  6. वंदना जी की कवितायेँ बहुत मनभावन हैं.

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  7. नूतन जी की हर बाल कविता अपने आप में पूर्ण है .....बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  8. बच्चों के लिए ही नहीं हमारे लिए भी तीनों कविताएँ जादुई छड़ियाँ हैं...

    उत्तर देंहटाएं
  9. वंदना जी की बाल कवितायें बड़ी मनभावन हैं....
    सादर...

    उत्तर देंहटाएं
  10. परिकल्पना टीम की तहे दिल से आभारी हूँ कि मेरा दायरा बढ़ाया

    उत्तर देंहटाएं
  11. वन्नू,-वन्नू, तुम इतनी अत्थी कवता कैथे लिख लेती हो...मुधे भी थिकाओ न!!!!

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top