क्यूं पहचानेगा
कोई मुझे
अब मेरे शहर में
हो गया अनजाना अब
अपने ही शहर में
सोने चांदी से
भर गयी झोलियाँ सबकी
बन गए मकाँ बड़े बड़े
सीख गए चालें ज़माने की
अपनों को लात मार कर
आगे बढ़ने का हूनर भी
आ गया
मैं ईमान-ओ-दोस्ती के
गुमाँ में
वही खडा रह गया
नहीं कर सका बराबरी
उनकी
उनसे पीछे रह गया
क्यूं पहचानेगा कोई
मुझे अब मेरे शहर में
डा.राजेंद्र तेला,निरंतर 
29-04-2012
483-64-04-12

1 comments:

  1. क्यूं पहचानेगा कोई
    मुझे अब मेरे शहर में
    भावमय करती शब्‍द रचना ।

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top