लोग क्लोरोस्ट्राल  से घबराते है
इसलिए तेल कम खाते   है
फिर भी तेल के दाम बढे जाते है
    उपज कम है,इसलिए ,मंहगी है तिलहन भी

सब तरफ  दाल में काला  ही काला है
मंहगाई ने सबका दम ही निकाला  है
दाल बिना रोटी का सूखा निवाला  है
         कम होती है पैदा,मंहगी है,   दलहन भी

नारी तो है देवी,नारी है मातायें
लेकिन नारी को ही,अब बेटी ना भाये
नहीं रुकी कन्या  के भ्रूण  की हत्याएं
           हो जाएगी दुर्लभ,तब मिलना  दुल्हन भी





मदन मोहन बहेती'घोटू'

2 comments:

  1. मत पूछो क्या हाल है ?
    सबसे सस्ती कार , सबसे महँगी दाल है !
    www.bwbkoof.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत बढ़िया प्रस्तुति!
    आपकी प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार के चर्चा मंच पर लगाई गई है!
    चर्चा मंच सजा दिया, देख लीजिए आप।
    टिप्पणियों से किसी को, देना मत सन्ताप।।
    मित्रभाव से सभी को, देना सही सुझाव।
    उद्गारों के साथ में, अंकित करना भाव।।

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top