फेसबूक के सी ई ओ मार्क जुकरवर्ग ने हाल ही मे फेसबूक पर यह भले ही घोषणा की है कि वे विवाहित हैं, ब्रिटेन के एक सर्वे के अनुसार दुनिया भर के तलाक़ों के पीछे फेसबूक का हाथ है ।

सर्वे के अनुसार तलाक का आवेदन करने वाले दंपति अपने साथी की फेसबूक पर उनके व्यवहार की शिकायत कर रहे हैं । इनमें सबसे ज्यादा अनुचित संदेशों को भेजने की शिकायतें है । संस्था ने पिछले साल के पाँच हजार तलाक के आवेदनों का अध्ययन किया और पाया कि 33 प्रतिशत से अधिक तलाक आवेदन फेसबूक के कारण ही हुये हैं । वर्ष 2009 मे यह प्रतिशत 20 था ।

डेली मेल के से डाइवर्स ऑनलाइन के प्रवक्ता मार्क कैनन ने कहा कि यदि किसी को फ़्लर्ट करना है तो फेसबूक सबसे ज्यादा आसान माध्यम है । अमेरिकन एकेडमी ऑफ मेट्रोमोनियल लायर्स का कहना है कि 80 प्रतिशत वकीलों का भी मानना है कि शोषल नेटवर्किंग के कारण तलाक के आवेदन बढ़े हैं ।

"फेसबूक एंड योर मैरिज" पुस्तक लिखने वाले के। जयसान क्राफसकी का कहना है कि पहले सालों या कई महीनों मे पनपने वाले अफेयर अब सिर्फ कुछ किलिक से संभाव हो गए हैं । अध्ययन मे यह भी पाया गया कि तलाकशुदा लोग भी अपने पूर्व साथी के बारे मे टिप्पणियाँ कर रहे हैं । 

5 comments:

  1. इंसान अपने इरादे का मालिक है लेकिन अपने ख़याल का नहीं। इरादा सोच समझ कर किया जाता है और उसे पूरा करना, न करना भी अपने हाथ में है लेकिन ख़याल किसी का पाबंद नहीं होता।

    http://auratkihaqiqat.blogspot.in/

    Sawdhan karti post ke liye shukriya.

    उत्तर देंहटाएं
  2. अच्छी जानकारी देती हुयी पोस्ट है यह मनोज जी !

    उत्तर देंहटाएं
  3. bahut hee acchi jaankari mili aapke is lekh se ..sadar badhayee ke sath sadar amantran bhee

    उत्तर देंहटाएं
  4. bahut hee acchi jaankari mili aapke is lekh se ..sadar badhayee ke sath sadar amantran bhee

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत बढ़िया प्रस्तुति!
    आपकी प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार के चर्चा मंच पर लगाई गई है!
    चर्चा मंच सजा दिया, देख लीजिए आप।
    टिप्पणियों से किसी को, देना मत सन्ताप।।
    मित्रभाव से सभी को, देना सही सुझाव।
    शिष्ट आचरण से सदा, अंकित करना भाव।।

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top