कौन कहता है
ऊंचे पहाड़ों पर घास के
मैदान नहीं होते
ऊंचे लोग धरातल से
जुड़े नहीं होते
हुए हैं इस देश में नेता
गाँधी,सुभाष पटेल
जैसे भी
ना अहम् था,ना स्वार्थ था
ना ही खुद का ध्यान था
जीवित रहे जब तक
सोचते रहे देशवासियों के
भले के लिए
जिए जब तक जिए
देश और देशवासियों
के लिए
कर्तव्य की बलि वेदी पर
करी जान न्योछावर
देश और देशवासियों
के लिए

12-05-2012

512-26-05-12


4 comments:

  1. सारगर्भित रचना ..!
    बधाई एवं शुभकामनायें ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    --
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    उत्तर देंहटाएं
  3. हाँ जमीन से जुड़े थे ये स्टेट्स मेन. अब नेता नहीं भ्रेष्ट होतें हैं ,अपने लिए जीते हैं अपने लिए रोते हैं .
    कृपया यहाँ भी पधारें
    -
    शनिवार, 12 मई 2012
    क्यों और कैसे हो जाता है कोई ट्रांस -जेंडर ?
    क्यों और कैसे हो जाता है कोई ट्रांस -जेंडर ?
    http://veerubhai1947.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top