इस बार भी बारिश में
पानी तो बरसेगा
पर बरखा की फुवारों में
भीगने का
मन नहीं करेगा
पेड़ों के पत्ते भी धुल कर
चमकने लगेंगे
पर मेरे चेहरे से
उदासी के बादल
नहीं छटेंगे
मिट्टी की सौंधी
खुशबू भी आयेगी
मेरे मन की उदासी
नहीं जायेगी
इस बार की बारिश में
वो मेरे साथ जो
नहीं होंगी
13-08-2012
660-20-08-12
डा.राजेंद्र तेला"निरंतर"

2 comments:

  1. इस बार की बारिश में
    वो मेरे साथ जो
    नहीं होंगी।

    आदरणीय श्रीराजेन्द्रजी, बढ़िया प्रस्तुति, आप को ढ़ेरों बधाईयाँ..!

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top