और अब आज के कार्यक्रम के आखिरी चरण मे बात करती हूँ शिवम मिश्रा की 

कुछ नहीं, बहुत बड़ी बात है - शिवम् मिश्रा का ब्लॉग और उनकी विशिष्ट सोच और योजना . उनके लेखन की बहुत बड़ी और निःसंदेह प्रशंसनीय की उनकी नज़र से विशेष तारीखें, विशेष व्यक्तित्व नहीं छूटते . पढ़ा तो आपने होगा ही , फिर भी एक क्षणिक यात्रा परिकल्पना के मंच पर मेरे द्वारा - आप स्वीकार करें या ना करें, परिकल्पना एक बौद्धिक मंच है ,समय की सूक्ष्म दृष्टि !

सूक्ष्म दृष्टि के स्वच्छ आईने में अभी देखिये शिवम् मिश्रा को  

यादों की गालियों मे अक्सर अंधेरा होता है ... 
और सुना है कि ...
अंधेरे और खौफ का चोली दामन का साथ होता है ... 
शायद इस लिए ही आज मैं खौफजदा हूँ !

बुरा भला: कैद मे गांधी ... अनशन पर अन्ना ... और मैं

यहाँ खुदा ... वहाँ खुदा ... कहाँ कहाँ नहीं खुदा ... 

और जहाँ नहीं खुदा वहाँ कल खुदा होगा ...

क्यों कि मैनपुरी में सीवर लाइन का कार्य प्रगति पर है ... 

जनता परेशान ... मिडिया चुप और अधिकारी ... दिन ओ रात तरक्की पर है ... 

स्विस बैंक की जरुरत नहीं इनको ... आईसीआईसीआई से काम चलता है ... 

५ बोरी सीमेंट में ५० बोरी बालू ... अरे बाबूजी इतना तो चलता है ... 

'भारत निर्माण ' में यह लोग भी अपना योगदान लगा रहे है ... 

जहाँ कहीं से भी आवाज़ उठे ... 

हाल उसको दबा रहे है ... 

वो अन्ना तो पागल है जो फिर अनशन पर बैठेगा ... 

नगर पालिका के आगे देखो गांधी खुद कैद में दिखेगा ... 


एक वादा और निष्ठा=

बुरा भला: "नाज़ - ए - हिन्द सुभाषपहुंची नेताजी भवन

 

जयदीप शेखर जी से एक वादा किया था कि जल्द से जल्द उनकी पुस्तक, "नाज़ - ए - हिन्द सुभाष", को कलकता के नेता जी भवन तक पहुंचा दूंगा ... सो 23 मार्च 2012 के दिन वो वादा पूरा हुआ !

वैसे तो अब तक मेरे लिए 23 मार्च का दिन केवल इस लिए विशेष था क्यों कि इसी दिन सन  १९३१ में  शहीद ए आज़म सरदार भगत सिंह जी , सुखदेव जी और राजगुरु जी ने देश के लिए अपना बलिदान दिया था और उनकी शहादत को याद करते हुए ही मैं कलकत्ता के गोल्फ ग्रीन में बने हुए अपने ताईजी के घर से निकला था नेता जी भवन के लिए !

लगभग ३० मिनट की टैक्सी यात्रा के बाद मैं खड़ा था कलकत्ता के एल्गिन रोड पर बने नेता जी भवन के सामने जो कि आजकल Netaji Research Bureau के कार्यालय और संग्रहालय के रूप में भी जाना जाता है ! पता नहीं क्यों पर १९९७ तक २० साल कलकत्ता में रहते हुए भी कभी भी यहाँ आना न हुआ था और आज जब मुझे मैनपुरी में रहते हुए १५ साल होने वाले है तब अपने ७ दिन के कलकत्ता प्रवास के दौरान खड़ा था वहां जहाँ जाने का सपना तो कई बार देखा पर कभी जा न पाया !

कुछ देर तक तो जैसे विश्वास ही नहीं हो पा रहा था कि मैं सच में यहाँ खड़ा हूँ  ... तरह तरह के विचारो से दिमाग भर गया था ... किसी तरह खुद को संभाला और वहां खड़े सुरक्षा कर्मी से श्री कार्तिक चक्रवर्ती से मिलने की अपनी इच्छा जताई तो पता चला कि एक मीटिंग चल रही है और सब उस में ही व्यस्त है ! यहाँ बता दूं कि श्री चक्रवर्ती प्रोफ़ेसर कृष्णा बोस के सचिव है ! प्रोफ़ेसर कृष्णा बोस नेताजी सुभाष चन्द्र बोस के भतीजे श्री शिशिर बोस की पत्नी है और फिलहाल नेताजी रिसर्च ब्यूरो की चेअर पर्सन है और ब्यूरो की सभी गतिविधियों को संभालती हैं ! कलकत्ता जाने से पहले जब मैं इस कोशिश में था कि किस तरह किताब को नेताजी भवन तक पहुँचाया जाए उस दौरान प्रोफ़ेसर कृष्णा बोस से एक बार मेरी फोन पर बात हुयी थी और उन्होंने ही मुझे श्री चक्रवर्ती से मिलने को कहा था ।

जब आप कुछ अच्छा करने की सोचते है तो सभी समीकरण अपने आप ही आप की तरफ हो जाते है ... ऐसा मुझे तब लगा जब अचानक कमरे से प्रोफ़ेसर बोस खुद बाहर आती दिखी ... मैं झट बड़ा उन की ओर और उन्हें प्रणाम किया ... उन्होंने मेरा नाम पुछा और वहां होने का कारण भी ... मैं झट उनसे हुयी फोन पर बातचीत का जिक्र किया तो उन्होंने पहचाना और सब से पहले वहां खड़े सुरक्षा कर्मी को निर्देश दिए कि मुझे ऊपर की मंजिल पर बने संग्रहालय को जरुर दिखाया जाए मैंने उनसे थोड़े समय की मांग की तो मीटिंग का हवाला देते हुए उन्होंने खेद प्रगट किया और कहा कि उनके पास ५ मिनट है मैं चाहूँ तो अपनी बात उनको बता सकता हूँ ... मैंने सब से पहले उनको "नाज़ - ए - हिन्द सुभाष" की एक प्रति दी तो उन्होंने किताब को ले कर थोडा पढ़ा फिर मुझे निर्देश दिया कि मैं इस की २ प्रतियाँ वहां बने पुस्तकालय के लिए श्री चक्रवर्ती को दे दूं ! मैंने उनसे अनुरोध किया कि अगर उनकी आज्ञा हो तो किताब से साथ उनका एक चित्र ले लूं तो उन्होंने विनम्रता से मना कर दिया साथ साथ उन्होंने कुछ बातें बताई जो एकदम सटीक है ...

प्रोफ़ेसर बोस का कहना है कि ,
"लोग बाग़ नेता जी की मृत्यु में ज्यादा रूचि लेते है न कि देश के लिए किये गए उनके कामो में ... जो बेहद दुखद है !"

"ऐसा क्यों है कि देश में 'महात्मा' शब्द पर तो एकाधिकार है ... पर 'नेताजी' हर ऐरा गैरा बन जाता है !?"
"क्यों युवा वर्ग आगे नहीं आता और पहल करता कि नेताजी के बारे में भी उनको पूरी जानकारी दी जाए !"  
"अपने इतिहास के प्रति उदासीनता घातक है!"

  मैं चुपचाप उनको बोलता देख रहा था और महसूस कर रहा था उस दर्द को जो नेताजी के प्रति सरकारों की अनदेखी से उपजा है ! अचानक उनका फोन बजा और जैसे वो और मैं दोनों एक नींद से जागे ... उन्होंने किताब मुझे लौटाई और वापस जाने को मुड़ी कि मैंने एक बार फिर उनको प्रणाम किया इस बार उनके मुख से निकला ... "बेचे थाको बाबा" और उनका हाथ मेरे सर पर था ... और गदगद हो गया मैं उनका आशीष पा कर !

 उनके जाते ही मेरा फोन बजा देखा घर में बड़े भाई साहब का फोन था ... बात कि तो पता चला जयदीप भाई द्वारा भेजी पुस्तकें आ गयी है ! एक बार फिर मन ही मन ऊपर वाले का शुक्र अदा किया ... मेरे पास सिर्फ एक  ही प्रति थी "नाज़ - ए -हिंद सुभाष" की और प्रोफ़ेसर बोस ने पुस्तकालय के लिए कम से कम २ प्रतियाँ मांगी थी ... पर अब जब जयदीप भाई का भेजा पकेट आ गया था तो चिंता की कोई बात ही नहीं थी ! मैंने पता किया मीटिंग कितनी देर चलने वाली है पता चला लगभग घंटे भर में ख़त्म होगी ... मेरे लिए काफी था घंटा भर ... दोबारा टैक्सी ली और घर आया पकेट लेने ... रस्ते में जयदीप भाई को फोन किया और पूरी बात बताई !

जब तक मैं लौटा मीटिंग ख़त्म हो चुकी थी पर कुछ लोग अभी भी ऑफिस में थे इस लिए श्री चक्रवर्ती अभी भी व्यस्त थे ... मुझे कहा गया आप तब तक ऊपर की मंजिल पर बने संग्रहालय को देख आइये ... मुझे आईडिया बढ़िया लगा ... और मैं चल पड़ा ऊपर की मंजिल की ओर ... 

लकड़ी के बने जीने को जैसे जैसे मैं चढ़ता जा रहा था एक अजीब से रोमांच भर रहा था सारे शरीर में ... हर तरफ नेताजी और उनसे जुडी यादो का जखीरा ... बिना खुद देखे महसूस करना या शब्दों में उसको यहाँ बता पाना संभव नहीं है ! कुछ चित्र लिए मैंने वहां ... कुछ ऐसी जगह पर भी जहाँ चित्र लेना मना था ... मुझे टोका भी गया मेरी गलती पर ... पर क्या करता मन को कैसे समझाता ... पर समझाना पड़ा ! जो चित्र मैं ले पाया वो फेसबुक पर अपलोड किये है लिंक नीचे दे रहा हूँ आप भी देखें !

नाज़ - ए - हिन्द सुभाष

संग्रहालय में नेता जी से जुडी हुयी विभिन्न वस्तुओ और दस्तावेजो को देख कर नेताजी के प्रति मेरी आस्था और श्रद्धा और बढ़ गई ... जो संभव हो तो आप भी एक बार जरुर कलकत्ता जाएँ और नेताजी से मिल कर आयें ... उनके अपने ही घर में !

संग्रहालय को देखने के बाद मैंने एक बार फिर श्री चक्रवर्ती से मिलने की इच्छा जताई तो मुझे वहां बने पुस्तकालय में ले जाया गया । श्री चक्रवर्ती पुस्तकालय के अन्य पदाधिकारियों के साथ वहां मौजूद थे ... मेरा परिचय उनसे करवाया गया और मैंने अपने वहां आने का कारण और प्रोफ़ेसर बोस से हुयी बातचीत और मुलाकात के बारे में उनको बताया और "नाज़ - ए - हिन्द सुभाष" २ प्रतियाँ उनको दी ! उन लोगो ने मेरे सामने ही किताब को थोडा पढ़ा और किताब को पुस्तकालय में शामिल करने की बात कही ।

मैंने उनका जयदीप भाई , अरुण जी और अपनी ओर से आभार प्रगट किया और उन से विदा ली ! लौटते हुए जयदीप भाई को दिए अपने वादे के पूरे होने की ख़ुशी के साथ साथ इस बात की भी बेहद ख़ुशी थी कि जिस जगह को देखने के बारे में बचपन से सोच रखा था आज वो सपना भी पूरा हुआ !

इसी के साथ मैं  सदा यानि सीमा सिंघल आप सभी से विदा लेती हूँ और आपको ले चलती हूँ वटवृक्ष पर जहां अरुणा कपूर  जी अपने संस्मरण के साथ उपस्थित है .....शीर्षक है बदला लेने के इरादे से….

8 comments:

  1. शिवम भैया से मेरी भी कुछ एक बार बात हुई है , मेरे बारे में ज्यादा कुछ जाने बिना ही मुझे एक बहुत बड़ी जिम्मेदारी सौंपने को तैयार थे लेकिन मेरा दुर्भाग्य था कि मैंने उन्हें हताश ही किया |
    नेता जी के ऊपर लिखा उनका संस्मरण बहुत सुन्दर है , मैं स्वयं नेता जी भवन जा चुका हूँ , वहाँ पहुँचने का रोमांच ही अलग है , शरीर में एक अजीब सी सिहरन और मन में एक अनोखा उत्साह |

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. ्बहुत सुन्दर परि्चय दिया आपने ……………आभार

    उत्तर देंहटाएं
  3. कुछ बात नहीं .... बहुत कुछ बात है .... मैं भी हमेशा दंग रह जाती हूँ ... उनके यादाश्त की कद्र करती हूँ ....
    शुभकामनायें !!

    उत्तर देंहटाएं
  4. dikhte dabang hain... par dil pure wala hindustani hai.... bas yahi khashiyat hai inki....!!
    dil se fan/ac hain inke ham:))
    shubhkamnayen...:)

    उत्तर देंहटाएं
  5. ...अच्छा किया आपने जो आखिर में इन्हें भी निपटा दिया..!

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत बढ़िया परिचय शिवम भाई का ....उनकी कर्तव्य निष्ठा निश्चय ही मानने लायक है !

    उत्तर देंहटाएं
  7. आप सब का बहुत बहुत आभार ... जब तक हूँ इस ब्लॉग जगत मे यही कोशिश रहेगी कि आप सब के भरोसे को कोई ठेस न पहुँचे ! ऐसे ही स्नेह बनाए रहे !

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top