बिना हास्य कल्पना कहाँ !!! शरीर,मन,दिमाग की तंदुरुस्ती के लिए इस रस का सेवन आवश्यक है ..... तो जिसे जो पसंद आये , वो रस ले ले ....

My Photo

हास्य कवि सम्मलेन... | My Poems(अमित शर्मा)

हो रहा है एक "हास्य कवि सम्मलेन"
हमारे दोस्तों का मेल आया...
"अमित जी" आप क्यों नहीं लेते भाग
सारे दोस्तों ने हमे चढाया ...
भोला मन बातो में आया
और जा हमने भी रजिस्ट्रेशन कराया...
एक दो ही कविताये अच्छी बन पाई थी
उन्ही के दम हमको लड़नी यह लड़ाई थी...
दो हफ्ते बीते, कहीं से कोई खबर न आई
लगा रेवीऊ पर ही वीरगति कविता ने पाई...
जाने कहाँ कैसे कहानी यह कुछ पलटा खा गई
और कवि सम्मलेन से के दिन पहले सलेक्शन की मेल आ गई...
ख़ुशी के साथ अब हमारी आँखों में तारे घूमते थे
स्टेज पर जाने की सोच, हाथ पाऊँ हमारे फूलते थे ...
हालत कुछ अजीब सी थी, करे क्या न सूझता था
रह रह गुस्सा कुछ, दोस्तों पर अपने फूटता था...
"घबराओं मत" दोस्तों ने हमारे समझाया
आओ करेंगे कुछ प्रेक्टिस सबका जबाब आया ...
पहली बार पढ़ी जब कविता, हैसियत अपनी समझ आई
एक भी न थी पंक्ति जो स्पष्ट मुहं से निकल कर आई ...
अपना तो यहाँ भी हो गया पोपट था
प्लान अब लगता यह भी चोपट था ...
हम तो थे जो थे हिम्मत अपनी हारे
मगर दोस्त कोशिश में अभी भी थे सारे ...
घंटे, लम्हों में बीत फिर वो शाम आई
और घबराते हुए हमने कवि-सम्मलेन में अपनी हाजरी लगाई...
कुछ दिग्गजों ने हमसे पहले थे वहां हाजरी लगाई
एक से बढ़ एक कविताये वहां उन्होंने सुनाई ...
अब हमारी बारी थी, संचालक ने आवाज़ लगाई
हिम्मत जुटा मंच पर पहुंचे, और कविता अपनी सुनाई ...
आवाज़ कुछ धीमी सी निकली , राम जाने कितने शब्द दिए सुनाई
कुछ तितलियों ने भी थी पेट में कुछ हलचल मचाई ...
पंक्तियों पर घर जाने कुछ जल्दी सी थी छाई
छोड़ कतार कुछ थी पहले मुंह पर हमारे आईं...
क्रम का वहां क्या किसी ने करना था,
जल्दी कर कविता खत्म, हमे तो बस निकलना था...
राम जी की दया से, जैसे तैसे इज्ज़त बचाई थी
हमारे मंच छोड़ने की ख़ुशी में फिर जनता ने ताली बजाई थी...
इस कवि सम्मेलन की जो है सीख, वो बतायेंगे
दोस्त चाहे अब कितना "चढाये", आगे से किसी मंच पर न हम जायेंगे ...
(" मुझे प्रेरित करने वाले सभी दोस्तों के लिए !!! ")
हंसमुख जी
दन्त चिकित्सक थे
दांतों का इलाज करते थे
पहले मुंह खुलवाते थे
फिर बात करते थे
एक दिन दर्द से पीड़ित
एक बुजुर्ग महिला उनके पास आयी
बोली दांत निकलवाना है
हंसमुख जी बोले
पहले मुंह खोलो,फिर बात सुनूंगा
हंसमुख जी ने महिला से
मुंह खुलवाया
ज़रा कम खुला था,सो बोले और खोलो
ज़रा और खोलो
बार बार यही बोलते रहे
महिला परेशान हो गयी
फिर झल्लाहट में बोली
बात क्या मुंह में, बैठ कर सुनोगे
दांत कब  निकालोगे
निरंतर यही होता था
कोई ज्यादा खुलवाने पर
नाराज़ होता
कोई कम खुलवाने पर
बोलता रहता

गर्मी इस बार कुछ ज्यादा ही पड़ गई,
वर्मा जी भी हो गए परेशान,
कुछ पसीने से,
कुछ बीबी-बच्चों के तानों से,
My Photoबेंक ने लोन दे दिया,
घर में एसी लगवा लिया,
खूब ठंडी हवा खाई,
कोलोनी में बिना एसी वालों को देखते,
तब मन ही मन कहते,
'उफ़ यह मिडिल क्लास वाले',
फिर आया विजली का बिल,
एसी की ठंडी हवा में पसीने आ गए,
लोन की किश्त भरें,
या विजली का बिल दें?
डराबने सपने आने लगे,
कभी विजली कट जाए,
कभी बेंक के गुंडे आ जाएँ,
खुद ही एसी वापस कर आये,
पसीना वर्दाश्त कर लेंगे,
लोन पर एसी लेकर,
मिडिल से अपर क्लास नहीं हो जाता कोई.


कवि सम्मेलन में
बिजली गुल हो गयी
एकदम सन्नाटा छा गया
दीपक भारतदीपकवियों की हो गयी बोलती बंद,
सब श्रोता चिल्लाने लगे
नहीं रहे थे वह अब शांति के पाबंद,
एक श्रोता बोला
‘‘कवि भाईयों
इस बिजली गुल होने पर
कोई कविता सुनाओ,
अंधेरे पर कुछ गुनगुनाओ,
देशभक्ति पर बाद में
अपने गीत और गज़लें सुनाना,
मौका है तुम्हारे पास
चाहो तो तरक्की का मखौल उड़ाना,
हमारे अंदर का दर्द बाहर आ जाये,
आप में से कोई ऐसा गीत गाये।
सुनकर एक कवि बोला
‘‘अंधेरा मेरा गुरु है
जिससे प्रेरित होकर मैंने शब्द शास्त्र चुना
उसका मखौल मैं उड़ा नहीं सकता,
बिजली की राह भी अब नहीं तकता,
आ जाये तो कुछ लिख पाता हूं,
नहीं आती तो सो जाता हूं,
इस देश में अंधेरा बसता है
यह बिजली ने आकर ही बताया,
हैरानी है यह देख कर 
अंधेरे ने पुराने लोगों को नहीं सताया,
हंसी यही सोचकर आती है
बिजली की रौशनी के हम गुलाम हो गये,
सूरज का प्रकाश अब मायने नहीं रखता
तरक्की में इंसानी जज़्बात कहीं खो गये,

इस अंधेरे में
मैं बोल सकता हूं
तुम सुन सकते हो
मगर इस कमरे में
अपनी आदतों से मजबूर हम
लाचार साये हो गये,
ओढ़ ली है बेबसी हमने खुद
उतना ही चलते हैं जितना बिजली चलाये,
कुदरत ने इंसान बनाया
मगर हम रोबोट बन गये,
यह अलग बात है कि 
बिजली से चलने वाले रोबोट हमने बनाये,
वह हमारे काम आते हैं,
पर हम खुद कभी किसी के काम न आये।

अब आज के कार्यक्रमों को स्न्पन्नता की ओर ले जाने का समय आ गया है और एक महत्वपूर्ण प्रस्तुति अभी भी शेष है , तो चलिये मैं आपको ले चलती हूँ वटवृक्ष पर जहां शुभाशीष पाण्डेय 'आलसी' लेकर उपस्थित हैं एक अभिव्यक्ति : चरित्रहीन – The call girl 

आप कविता का आनंद लें और मुझे दे अनुमति जाने का ......कल फिर उपस्थित होती हूँ परिकल्पना पर सुबह 10 बजे , तबतक शुभ विदा !

11 comments:

  1. हास्य/व्यंग्य की सुन्दर महफ़िल...
    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  2. हास्य रस से सराबोर कर दिया।

    उत्तर देंहटाएं
  3. आप जीवन के सारे रंग से मिला रही हैं :))
    आभार !!

    उत्तर देंहटाएं
  4. हास्य की सुन्दर महफिल सजाई है..मजा आगया..

    उत्तर देंहटाएं
  5. मेरी रचना को परिकल्पना में स्थान देने के लिए शुक्रिया

    उत्तर देंहटाएं
  6. सभी रचनाएं एक से बढ़कर एक हैं ... आभार इस उत्‍कृष्‍ट प्रस्‍तुति के लिये

    सादर

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top