परिकल्पना, परिकल्पना ब्लागोत्सव और वटवृक्ष के इस ऐतिहासिक मंच पर -
1दिसम्बर से अब तक कई विषयों से सम्बंधित रचनाएँ लिखे और पढ़े गए - 
कहानी,कविता,संस्मरण,लघुकथा,समीक्षा,क्षणिकाएं ,हाइकु,आलेख,व्यक्तित्व विश्लेषण, ...... 
अपनी पसंद के नाम लिखते जाएँ ....... 
निःसंदेह , सबकुछ ध्यान में रखते हुए अंतिम निर्णय हमारा,
विशेषकर मेरा होगा (रवीन्द्र जी के अनुसार). 

शिकायतें कभी खत्म नहीं होतीं,उनका भी अपना एक स्रोत है .... लहरें घातक ना हों,इसलिए पहला वोट आपका - फिर उस आधार पर मेरा !

अपनी पसंद के नाम सोचिए, तब तक मैं एक अल्प विराम लेती हूँ
और मिलती हूँ उत्सव की आखिरी प्रस्तुति के साथ ।  

आपकी-
रश्मि प्रभा 

3 comments:

  1. बहुत सुन्दर आयोजन चलता रहा और काफ़ी नयी रचनायें पढने को मिलती रहीं ………हार्दिक आभार

    उत्तर देंहटाएं
  2. मैं तो ब्लॉग में ज्यादा पुराना भी नहीं हूँ , पहली बार ऐसा कोई ब्लोगोत्सव देखा ,
    और सच कहूँ तो मुझे तो पढ़ने में ही बहुत मजा आया |

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुंदर आयोजन ....बहुत सी रचनायें पढ़ने को मिली ...ओर आप ने बहुत मेहनत की ...अच्छे रचनाकारों को पढ़ने का अवसर मिला .....आभार

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top