कल मैं लम्बी यात्रा पर था, रास्ते में देखा कि एक ट्रक खड्ड में गिरी है और उसके पीछे लिखा है - " हम सुनहरे भविष्य की ओर बढ़ रहे हैं ।" मुझे बड़ी हंसी आई, मगर ट्रक पर लिखी उस उक्ति के कारण नहीं, बल्कि यात्रा के दौरान मोबाइल पर फेसबूक की एक टिप्पणी को पढ़कर । 

संतोष त्रिवेदी जी ने लिखा था कि "डायचे-वेले के ब्लॉगिंग सम्मान को लेकर कुछ लोग इत्ते उतावले हो रहे हैं कि चार लोगों के सहयोग से जर्मनी जाने से परहेज नहीं है। हमने तो अभी तक यही सुना था कि अंत समय में ही चार कांधों की ज़रूरत होती है .....!"


जैसे ही डायचे-वेले का प्रकरण आया है, मुझसे मेरे एक ब्लॉगर मित्र ने पूछा कि भैया जर्मनी तो कोई एक ही जाएगा न .... आप में इक्यावन लोगों की गुंजाइश है .....कब कर रहे हैं परिकल्पना सम्मान की घोषणा ? 

मैंने कहा- भाई कहाँ डायचे-वेले का अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार और कहाँ दो कौरी की परिकल्पना, सम्मान लेने के लिए भला अब कोई ब्लॉगर लखनऊ क्यों आयेगा ? जर्मनी क्यों नहीं जाएगा ? 

मैंने तो सोचा था कि इस बार यदि कोई याद नहीं दिलाया तो सो जाऊंगा लंबी चादर तानकर, लेकिन क्या करूँ यह ब्लॉगजगत न तो ठीक से जगाने देता है और न ही सोने ही देता है । इतना कहना था कि उस ब्लॉग पंडित ने कृष्ण की तरह मेरे पुरुषार्थ को ललकारते हुये श्लोक ही बाँच डाला कि " उद्यमेन हि सिद्धयंति कार्याणि न मनोरथे: । नहिं सुप्तस्य सिंहस्य प्रविशन्ति मुखे मृग : ॥" 

फिर उन्होने मुझे समझाया कि ऐसे समय में जब हिन्दी ब्लॉगजगत का पूरा कुनबा "डायचे-वेले ब्लॉग फिक्सिंग" की खबरों को चटखारे लेकर सुनने मे व्यस्त है, धीरे से परिकल्पना सम्मान (तृतीय)  के 51 नामितों की घोषणा कर ही दिया जाये। क्या पता पिछले वर्ष की तरह फिर कोई डिस्क्लेमर की नज़र लग जाये । अब भला किस-किस पर आप मुकदमा करते फिरोगे ? किस-किसको गला फाड़के स्पष्टीकरण देते फिरोगे भला ? 

इतना सुनने के बाद मुर्दा भी उठकर खड़ा हो जाये, मैं तो भला जीवित जीव हूँ । मैंने कहा मित्र पिछली बार एक सज्जन ने यह कहकर उंगली उठाई थी कि दिल्ली और लखनऊ में होने वाले सम्मेलन अंतर्राष्ट्रीय कैसे हो गए ? 

उनका आशय था कि भारत से बाहर होने वाला सम्मेलन ही अंतर्राष्ट्रीय होता है, इसलिए मैं इसबार कार्यक्रम दिल्ली, लखनऊ के बाद अब पटना या भोपाल में नहीं करूंगा । 

तो कहाँ करेंगे ? उन्होने भारी मन से पूछा । मैंने कहा विदेश में । इसपर उन्होने कहा "तब तो पासपोर्ट और वीजा का चक्कर लगेगा ?" 

मैंने कहा उसकी जरूरत नहीं, क्योंकि काठमाण्डू के लिए पासपोर्ट और वीजा की जरूरत नहीं होती। काठमाण्डू का नाम सुनते ही उनके चेहरे खिल गए और मुस्कुराकर कहा "हाँ यह ठीक है ।'' 

तो चलिये काठमाण्डू चलने की तैयारी करते हैं, लेकिन इसबार एक दिवसीय नहीं, बल्कि तीन दिवसीय सम्मेलन में ।

इसके लिए एक सप्ताह के भीतर कमेटी मेम्बर की बैठक लखनऊ में होगी और 51 पुरस्कारों की घोषणा के साथ तय कार्यक्रमों को सार्वजनिक कर दिया जाएगा । 

क्या आप तैयार हैं काठमाण्डू चलने के लिए ? 

65 comments:

  1. ...इस शुभ आयोजन की बधाई और शुभकामनाएँ !
    .
    .अब डायचे-वेले वाले थोड़ी-सी राहत महसूसेंगे !

    उत्तर देंहटाएं
  2. परिकल्पना सम्मान (तृतीय)का आयोजन सफल हो इन्‍हीं शुभकामनाओं के साथ बहुत-बहुत बधाई
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  3. बधाई फिर एक नए पड़ाव के लिए ....

    उत्तर देंहटाएं
  4. कार्यक्रम की सफलता के लिये ढेरों शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  5. काठमान्ड़ू अरे तब तो बाइक से ही नेपाल यात्रा भी लगे हाथ हो जायेगी।
    लेकिन परिकल्पना के लिये तीन दिवस क्यों?

    उत्तर देंहटाएं
  6. तीन दिवस का कार्यक्रम भी लगे हाथ बता देते।

    उत्तर देंहटाएं
  7. कार्यक्रम के सफल आयोजन के लिये अग्रिम शुभकामनायें एवँ बधाइयाँ !

    उत्तर देंहटाएं
  8. काठमांडू ? ;) मौका तो नहीं गँवाना चाहूंगी

    उत्तर देंहटाएं
  9. संदीप पँवार जी,
    अब भला काठमाण्डू जाएँ आप और कार्यक्रम में शामिल होकर लौट आयें । ये भी तो अच्छी बात नहीं एक-दो दिन पर्यटन का भी तो लाभ लिया जाये ?

    उत्तर देंहटाएं
  10. shubhkamnayen......
    äap bulayen ham na aayen...
    ye ho sakta hai kya :)

    उत्तर देंहटाएं
  11. Ravindra Ji,

    Lucknow aayojan ka maiN saakhsi rahaa hooN, kathmaandu Bhi jaroor aaunga, krupaya kaarykram ka vivaraN aur schedule jaroor jaldi se de Denve taaki plan kar sakooN.

    Aayojan ke liye agrim badhaaiyaN aur shubhkaamnayeN...

    उत्तर देंहटाएं
  12. शुभकामनायें आपके प्रयास सफल हों ...

    उत्तर देंहटाएं
  13. "डायचे-वेले के ब्लॉगिंग सम्मान को लेकर कुछ लोग इत्ते उतावले हो रहे हैं कि चार लोगों के सहयोग से जर्मनी जाने से परहेज नहीं है। हमने तो अभी तक यही सुना था कि अंत समय में ही चार कांधों की ज़रूरत होती है .....!"

    हमने भी कुछ यही सुना है, जय हो महामाई की!

    हमारे लिए तो नेपाल ही जर्मनी है, ऐसा दिन न आए कि जीते जी चार काँधों की जरूरत पड़े....?

    उत्तर देंहटाएं
  14. Ravindra Ji,

    Lucknow ke safal aayojan ka saakshi rahaa hooN, Kaathmaandu bilkul aayenge Ji.

    Sirf Schedule aur VivaraN jald se jald de deejiyega taaki plan kar sakooN.

    Regards,

    Mukesh K. Tiwari

    उत्तर देंहटाएं
  15. रविन्द्र भाई हम भी जाने को तैयार हैं, जब "ब्लॉग जगत का आस्कर सम्मान" मिले और न जाएं ये नहीं हो सकता है। इसलिए अभी से दो स्पोंसर ढूंढ लेते हैं। आप जरा सम्मान की घोषणा वाली मेल भेजिए। :)

    उत्तर देंहटाएं
  16. परिकल्पना सम्मान के नाम से तो सरकारी यात्रा अनुदान भी मिल सकता है। सायकिल वाले बाबा से बात करिए, सबके लिए फ़्री हो जाएगा। :)

    उत्तर देंहटाएं
  17. Aaj tak ham kathmandu nahin jaa paaye,is mauke par ho legen! Ham sath rahengen!
    Yah anouncement sunkar to kuchh logon kee chhati par saanp lot gaya hoga :-)

    उत्तर देंहटाएं
  18. आशा बनी रहे अविनाश्
    उग आया फिर से प्रभात्
    अधीर न हो अब रणधीर
    मिटे जाए तुष्टि की पीर
    अलिप्त कहाँ रह्ते अरविन्द
    सन्तोष सुख की पाए निन्द
    दोनो हाथ लुटाएँ लड्डु
    चलो चलें अब काठ्माण्डू॥

    उत्तर देंहटाएं
  19. ये कंधा लेने वाले का तो नाम पता चल गया, पर कंधा देने वाले कौन है? कहीं से उनका भी नाम खोज बीन के निकाले, तो पंचों को थोडी मौज आए!

    कार्यक्रम हेतु बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  20. हार्दिक बधाई, हम भी आने की कोशिश करेंगे..

    उत्तर देंहटाएं
  21. सुज्ञ जी,
    आपकी आशा और आपका विश्वास कायम रहेगा, क्योंकि डाईचे वेले की तरह यहाँ पर्मिशन लेकर पढ़ने वाले किसी ब्लॉग को या फिर गांधी के इस देश में हिंसा को बढ़ावा देने वाले किसी हलाल मीट को नामित
    नहीं किया जाएगा। भारत गांधी का तो नेपाल बुद्ध का देश है, इस बात का ध्यान रखा जाएगा ।

    उत्तर देंहटाएं
  22. बहुत बहुत आभार रविन्द्र जी,

    बस अहिंसक जीवन मूल्यों का संरक्षण होता रहे यही अपेक्षा रहेगी।

    उत्तर देंहटाएं
  23. कार्यक्रम की सफलता के लिए बहुत बहुत शुभ-कमाएँ ... मिलने मिलाने का सिलसिला यूं ही चलते रहना चाहिए ...

    उत्तर देंहटाएं
  24. सुन कर खुशी हुई। समारोह की सफलता के लिये शुभ कामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  25. sunkar prasannata hui , parikalpana ki safalta ke liye hardik shubhkamnaye

    उत्तर देंहटाएं
  26. कार्यक्रम की सफलता के लिए अनेकों शुभकामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  27. आपके प्रयास सफल हों -अग्रिम शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  28. आयोजन की सफलता के लिए शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  29. इस कार्यक्रम के लिए अग्रिम शुभकामनाएं और बहुत बहुत बधाई हो आपको । सच कहा आपने हम एक सुनहरे भविष्य की ओर बढ रहे हैं और यूं ही उसी ओर अग्रसर रहना चाहिए । पुन: शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  30. हम सुनहरे भविष्य की ओर बढ़ रहे हैं...... ?

    BILKUL.

    उत्तर देंहटाएं
  31. समारोह की सफलता के लिये शुभ कामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  32. परिकल्पना सम्मान (तृतीय)का आयोजन सफल हो इन्‍हीं शुभकामनाओं के साथ बहुत-बहुत बधाई
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  33. पुरस्‍कार और सम्‍मान में तो मेरा विश्‍वास नहीं है लेकिन आपको कार्यक्रम करने के लिए शुभकामनाए।

    उत्तर देंहटाएं
  34. वाह जी बहुत बढ़ि‍या. इस बार भी सदा की ही तरह सफल हों, शुभकामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  35. आप सभी की शुभकामनायें ही तो हमारी सफलता का संबल है काजल जी।

    उत्तर देंहटाएं
  36. कार्यक्रम की सफलता के लिये अग्रिम शुभकामनाएं..

    उत्तर देंहटाएं
  37. सम्मान आयोजनों को लेकर कुछ शिकवे शिकायत रहते ही हैं लेकिन इसका ये अर्थ नहीं कि आलोचनात्मक सुझाव देने वाले विरोधी हैं। हर आयोजन में ढेरों परिश्रम होता है, कुछ कमियाँ भी होती हैं। परिकल्पना को दो कौड़ी का कम से कम मैं बिल्कुल नहीं मानता। किसी भी सम्मान समारोह में जाना फ़िलहाल संभव नहीं लगता लेकिन शुभकामनायें हमेशा उद्यमीजन के साथ रहती हैं। पहले भी थीं, अब भी हैं और आगे भी रहेंगी।

    उत्तर देंहटाएं
  38. आज की ब्लॉग बुलेटिन गुड ईवनिंग लीजिये पेश है आज शाम की ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  39. गया ट्रक गड्ढे में या गई भैंस पानी में :-)

    वैसे हम तो तैयार है, अगर महीना सितंबर का ना हो तो

    उत्तर देंहटाएं
  40. हार्दिक बधाई और शुभकामनायें |

    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    उत्तर देंहटाएं
  41. मेरी ओर से भी आपको और आपकी पूरी टीम को कार्यक्रम के सफल आयोजन के लिये अग्रिम शुभकामनायें एवँ बधाइयाँ !

    उत्तर देंहटाएं
  42. आपको अग्रिम शुभकामनाओं के साथ
    अपना स्थान सुरक्षित कराना चाहता हूं
    दिल्ली की यादें अभी तक दिलो-दिमाग पर हैं. उसके बाद लखनऊ तो न आ सका था,मेरे पूज्य
    स्व. जीजाश्री उस समय गम्भीर थे.
    अब पूरी तैयारी रहेगी.. लाईव होगा सारा कार्यक्रम
    बस नेट, पद्म सिंह, और एक पी.सी. वांछित होगा..

    उत्तर देंहटाएं
  43. जुलाई के सप्ताहांत में या फिर अगस्त के प्रथम सप्ताह की किसी तिथि में चलने की योजना है। आपस में राय-विमर्श हो जाये फिर सार्वजनिक करते हैं दिनेश जी ।

    उत्तर देंहटाएं
  44. कार्यक्रम की सफलता के लिये ढेरों शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  45. हिन्दी दिवस यानि 14 और 15 सितंबर की तिथि उपयुक्त है, बाकी और लोगों की भी राय ले ली जाये ।

    उत्तर देंहटाएं
  46. आयोजन की सफलता के लिए हार्दिक शुभकामनाएँ....

    उत्तर देंहटाएं
  47. उउउउउउउउउउउउउउ शाब ज़ी :)
    स्विट्ज़रलैण्ड जाने की इच्छा है रविंद्र जी... किसी रोज़ परिकल्पना अवार्ड वहाँ करवाये तो और मज़ा आ जाये... वैसे काठमांडू भी विदेश ही है... घणी-घणी बधाई जी।

    उत्तर देंहटाएं
  48. इतनी शुभकामनाएं ......अब क्या कहें....

    उत्तर देंहटाएं
  49. परिकल्पना सम्मान (तृतीय)का आयोजन सफल हो इन्‍हीं शुभकामनाओं के साथ बहुत-बहुत बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  50. हमारी शुभकामनायें हमेशा आपके साथ हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  51. हिन्दी दिवस यानि 14 और 15 सितंबर की तिथि अतिउत्‍तम है। पढ़ने-पढ़ाने का सेशन हो तो मज़ा आ जाएगा। हम भी एक ठो व्‍यंग्‍य पढ़ने का मौका हथियाना चाहेंगे।

    उत्तर देंहटाएं
  52. अवश्य प्रमोद जी,
    इसबार समय ज्यादा मिलेगा,इसलिए पढ़ने-पढ़ाने का कार्यक्रम भी बन रहा है।इस बार हिन्दी के साथ-साथ अङ्ग्रेज़ी,नेपाली,मैथिली,अवधि,भोजपुरी,छतीसगढ़ी और नेवारी भाषा के ब्लॉगर को भी शामिल किए जाने की योजना है । साथ ही एक दिन पर्यटन का भी लाभ मिले ऐसी व्यवस्था की जा रही है ।

    28 को कमेटी मेम्बर की लखनऊ में एक बैठक हो रही है जिसमें सभी बिन्दुओं पर विचार विमर्श होने की संभावना है। इस दिन प्रेस से मिलिये कार्यक्रम भी रखा जा रहा है । शीघ्र ही कार्यक्रम का विस्तृत व्योरा प्रस्तुत कर दिया जाएगा ।

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top