कहते हैं , नदी की मानिंद होती हैं बेटियाँ, जिसके चुलबुले कदमों के प्रवाह मे समाहित होती है पिता की छोटी-छोटी खुशियाँ। पर जब अचानक चुलबुले कदमों का प्रवाह सधे हुये कदमों में बदल जाये और मिलने वाली इस खुशी को सँजोने में पिता का दामन ही छोटा पड़ जाये, तो क्या कहेंगे आप ? 

चुलबुले कदमों के प्रवाह को सधे हुये कदमों में बदलने की तैयारी का पहला पड़ाव 
यानि विगत 13 जुलाई को मेरी सुपुत्री ऊर्विजा की अभिनेता आलोक भारद्वाज के साथ सगाई (रिंग सिरोमनी)  सम्पन्न हुयी ।


18 comments:

  1. पूरे परिवार को इस मंगल अवसर पर मेरी ओर से हार्दिक बधाइयाँ और मंगलकमनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  2. मेरी ओर से बेटी ऊर्विजा और आलोक भारद्वाज जी को हार्दिक बधाइयाँ और मंगलकमनायें !
    RECENT POST : अभी भी आशा है,

    उत्तर देंहटाएं
  3. बच्चों की नई जिंदगी के लिए शुभआशीष और शुभकामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह बहुत बहुत हरदिल बधाई दोनों बच्चे खुश रहे :)

    उत्तर देंहटाएं
  5. हार्दिक बधाई और शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  6. सभी परिवार जनों को हार्दिक बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपको और परिवार को बहुत बहुत बधाई ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. मुबारकबाद एवं बिटिया को शुभकामनाएं!

    उत्तर देंहटाएं
  9. आपको आपके परिवार को - विशेषकर उरविजा बेटी और चिरंजीवी आलोक भारद्वाज को ढेर सारी बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  10. सच कहा आपने नदी की मानिंद होती हैं बेटियाँ, जिसके चुलबुले कदमों के प्रवाह मे समाहित होती है पिता की छोटी-छोटी खुशियाँ।
    ..बेटियां पिता का गौरव हैं ..
    इस ख़ुशी पर मेरी और से आपको सपरिवार हार्दिक शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top