दुनिया में रहना है तो थोडा हंसना ज़रूरी है 
थोड़ी शरारत न हो 
खिलखिलाहट न हो 
तो गुलमर्ग की खुशबू खत्म हो जाये 
सारे टिमटिमाते तारे बुझ जाएँ 
झरने का सौंदर्य पत्थर हो जाये  .......... तौबा,तौबा - आप ऐसा चाहेंगे क्या ? नहीं न ?? तो मुझे देखिये और आईने के करीब जाकर मेरी तरह मुस्कुराइए  … 

नहीं तो जरा डॉ टी एस दराल के नुस्खों पर गौर फरमाइये =

1) दो कंजूस : 

दो कंजूस मित्रों की हुई शादी 
और बात हनीमून की आई ,
तो एक कंजूस ने चिंता ज़ताई 
यार यह तो बिना बात का खर्चा आ गया ! 
दूसरा कंजूस बोला सच कहा भाई  
इसीलिये आधा खर्चा बचाने को , 
मैं तो हनीमून पर अकेला ही चला गया ! 
पहला बोला यार सब फिज़ूलखर्ची है ,  
मैने तो पूरा ही खर्चा सहेज लिया !
और हनीमून पर पत्नी के साथ
अपनी जगह पड़ोसी को भेज दिया !
2) काम : 

मीटिंग खत्म हुई तो
बॉस पी ए से बोला,
आज तो बहुत देर हो गई !
अब घर जाकर भी काम संभालना पड़ेगा ! 
पी ए बोली , सर उसकी चिन्ता नहीं है ,
खाना बनाने का काम
आजकल हमारे पतिदेव कर रहे हैं! 
बॉस बोला डियर तुम्हारी नहीं,
हम तो अपनी बात कर रहे हैं !! 

3) डांट :

एक अफसर की पी ए देर से आई , 
साहब ने उसे जमकर डांट लगाई !
हमने कहा ज़नाब , 
काहे बेचारी महिला को डांट लगाते हैं !
वो बोले भैया , ये दफ्तर की बात है, 
घर मे तो डांट हम खुद ही खाते हैं !  

4) कविता चोर कवि :

एक बार हमने कविता सुनाई ,
सुनकर श्रोताओं ने जमकर तालियाँ बजाईं ! 
तभी एक महिला आकर बोली , 
डॉक्टर साहब कमाल है,
हम क्या सोचते थे, आप क्या निकले ! 
आप बड़े शरीफ दिखते थे,
आप तो असली कवि निकले ! 
बात हमे तब समझ मे आई, 
जब पता चला कि वो जिस कवि की फैन थी ,
उसी की काव्य गोष्ठी से होकर आई थी !
और हमने अपने नाम से
उसी कवि की कविता चुराकर सुनाई थी ! 

5) 
क्रांति :
कभी मां बाप बेटे से कहते थे,
बेटा सुन्दर , सुशील
गृह कार्य मे दक्ष  , 
लड़की से ही शादी करना !  
आजकल कहते हैं, बेटा 
शादी लड़की से ही करना !!

नोट : कृपया बताएं कौन सी हंसिका सबसे ज्यादा पसंद आई ! ( कोई भी पसंद न आई हो तो भी बताएं ) 

और तब भी न हंसी आये तो एक नज़र इन पर भी - 





एक बार संता की पत्नी बीमार हुई तो संता ने उसे अस्पताल में भर्ती कराया.
कुछ देर तक ऑपरेशन थिएटर में संता की पत्नी की जांच करने के बाद जब डॉक्टर बाहर आए, तो संता ने डॉक्टर से पूछा – क्या हुआ डॉक्टर साहब, सब ठीक तो है न?
डॉक्टर: एक बहुत ही बुरी खबर है.
संता: क्या हुआ डॉक्टर साहब?
डॉक्टर: तुम्हारी पत्नी बस पांच घंटों की ही मेहमान है.
संता: कोई बात नहीं डॉक्टर साहब, अब जहां पांच साल बर्दाश्त किया है तो पांच घंटे और सही.

===================================================
संता एक परदे की दुकान पर गया. दुकानदार ने पूछा किस आकार का परदा चाहिए?
संता: 16 इंच.
दुकानदार (आश्चर्य से): 16 इंच? इतना छोटा परदा? आपकी खिड़की किस आकार की है.
संता: खिड़की के लिए नहीं, मुझे कंप्यूटर के लिए परदे चाहिए.
दुकानदार: कंप्यूटर के लिए परदे की क्या जरूरत है?
संता: एक्सक्यूज मी! आई हैव विंडो कंप्यूटर.

आप हास्य का आनंद लीजिये, मैं मिलती हूँ कल फिर इसी समय इसी जगह ....शुभ विदा! 

5 comments:

  1. सभी हँसिकाएँ....गुदगुदाने वाली थीं ...लेकिन २ कंजूस सबसे ज़यादा पसंद आयी......वैसे आप भी चुनकर मोती लाती हैं ...चाहे वह कोई 'रस' हो

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह जी ....मज़ा आ गया
    किस रचना को बेहतर बताऊँ मुझे तो सब ने गुदगुदाया https://lh3.googleusercontent.com/-Em3lvBgvYlI/T2WElbV0BaI/AAAAAAAACdI/ApynphQdka8/s36/7.gif

    उत्तर देंहटाएं
  3. मुझे देखिये और आईने के करीब जाकर मेरी तरह मुस्कुराइए … :)))))
    बहुत ही बढिया

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top