अनुलता - 


हिंदी ब्लॉग लिखती हैं, और माशाअल्लाह अंग्रेजी रचना और उसके अनुवाद पर भी

 अच्छी पकड़ है  … कहना पड़ेगा, मोती चुगने गई जो हंसिनी मानसरोवर तीर तो बेशुमार मोती मिले  … 

      रश्मि प्रभा 



just a question ! "


There is something cold in your heart,

 Like a frozen lake in winter.
The warmth of love you forget,

t'was gushing spring of summer.

There is something more in world,

Rather losing a friend so old.

May be in front there steps of gold,

but not railing of love to hold..

"बस एक सवाल...."(हिंदी अनुवाद)
तुम्हारी बेरुखी
तुम्हारे भीतर के सर्द एहसास
बर्फ हो गयी किसी झील के मानिंद
तुम्हारा दिल..
तुम शायद भूल गयीं उस रिश्ते की गर्माहट
जो था किसी पहाड़ी झरने की तरह जोशीला |
पुराने साथी को खोकर क्या रह जाता है हमारे पास !
तुम खो गयीं, सुनहली  दुनिया की चकाचौंध में
मगर उन धुंधलाई आँखों की वजह से
कभी जो डगमगाये तुम्हारे कदम 
तब मेरे प्यार का सहारा कहाँ से लाओगी??

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

I AM WALKING ALONE....



I am walking alone.                                       
Towards unknown..
Will you come with me,my love
To know the unknown.

This 'May',I am alone,
alone, alone, alone, 
Will you come like a  cool breeze 
To satiate the parched bones.

When 'May' is gone
Will you come like June 
With fresh shower to shoot..
Bowers and thorns

In this darkness
I am alone,alone,alone 
Can't you come more closer
That i can feel your flesh and bones.



तनहा है ये सफर..साथ दो मेरा ! (हिंदी अनुवाद)

                                                           
मैं चला जा रहा हूँ 
अकेला
अनजान मंजिल की ओर
कहो !
क्या तुम चलोगी साथ मेरे
जानने, उस अनजानी राह को?

इस जेठ की गर्मी..
अकेला हूँ मैं
एकदम अकेला...
क्या आओगी तुम
शीतल बयार की तरह
मेरे अंतस को भिगोने ?

जब बीतेगा ये तपता मौसम
क्या तब आओगी तुम 
ताज़ा फुहार बन कर,
नयी कलियाँ  खिलाने
कंटीली झाडियों में !

इस तन्हाई के अंधेरों में 
अकेला  हूँ मैं...
बिलकुल अकेला |
क्या आओगी तुम 
मेरे करीब..इतना करीब
कि महसूस कर सकूँ
तुम्हें
और तुम्हारी रूह को भी...

अनुवाद - अनुलता राज नायर

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
~

LIFE IS NOT ALWAYS BEAUTIFUL......


This is the night,
I give up my fight
and fall prey to the might
of those who want to kill me.
This is my ultimatum to my soul,
As I won't stand up any more...
Now I'm a cold blooded animal
Running from the beastly cannibal
As it hunts for me,my soul...
This is life's vengeance for my doings.
As this vendetta has caused my undoing
Now I'm lost,dead,soulless....
'Can't imagine,what went wrong with me
Now I know,nothing was right,can't you see?
So I give up and pray for the deceased,
Of course that's me,
Rest in Peace.
 
ज़िन्दगी हमेशा खूबसूरत नहीं होती (हिंदी अनुवाद)

गहन अन्धकार है
हिम्मत जवाब दे चुकी है...
मैंने आत्मसमर्पण कर दिया
अपने भक्षक के समक्ष.
अपनी आत्मा  को चेता दिया आखरी बार
और खुद को हवाले कर दिया नियति के...
क्योंकि मेरी शक्ति चुक गयी है
पस्त हूँ मैं...
अब मैं एक निर्बल असहाय पशु हूँ...
जो भाग रहा है 
खून के प्यासे शिकारी से बचने के लिए...
जो  मुझे और मेरी आत्मा को मार देना चाहता है...
शायद जीवन का प्रतिशोध है यह ,
मेरे कर्मों के प्रति...
और उसकी बदले की आग मुझे ख़ाक कर रही है
मैं खत्म हो गया हूँ...
आत्मा  विहीन...
समझ नहीं पा रहा हूँ क्या भूल हुई...
या समझ रहा हूँ कि
कुछ भी ठीक नहीं हुआ
मैं हार चुका हूँ
प्रार्थना कर रहा हूँ असहाय शिकार के लिए...
हाँ ! स्वयं के लिए
कि अब मैं शान्ति से सो सकूँ
चिरनिद्रा में....
मेरा परिचय
अनुलता - 

my dreams 'n' expressions.....याने मेरे दिल से सीधा ... 







अँग्रेजी साहित्य की इन खूबसूरत अभिव्यक्तियों के साथ आज का कार्यक्रम संपन्न,
मिलती हूँ कल फिर सुबह 10 बजे परिकल्पना पर.....

9 comments:

  1. प्यारी मुस्कान की मलिका उम्दा लेखन की रचनाकार
    बहु प्रतिभाशाली है :)
    (c) इतना मेहनत जो है

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभार दी....आपका दिल से शुक्रिया !!

      सादर
      अनु

      हटाएं
  2. शब्द और भाव दोनों ही सर्द दिल में हरकत ले आते हैं...मन उदास हो गया... यही लेखन की सफलता है... अनु को ढेरों शुभकामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  3. बेहद बेहद खूबसूरत अनुवाद... एक प्रोफेशनल अनुवादक के रूप में कह सकती हूं :):)

    उत्तर देंहटाएं
  4. :) नि:सन्‍देह आपकी खोज़ जबरदस्‍त है और रचनायें भी
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  5. जैसी मोहक मुस्कान वैसे सजीले शब्द :)

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top