देश हमारा धरती अपनी 
सपने कभी रुकते नहीं 
जूनून कभी थमता नहीं  … 

          रश्मि प्रभा 

यह धरती मेरे देश की 

यह धरती मेरे देश की 
यह माटी मेरे देश की 
      फूलों की फ़सल उगायेगी 
      क्यारी क्यारी महकायेगी 
      यह धरती मेरे देश की ।
जिस का कण कण है कुन्दन सा 
जिस की रज चन्दन सी पावन 
उस का ही आँचल फटा हुआ 
उस की ही आँखों में सावन ।
     लेकिन जब कोटि कोटि माथों से बही पसीने की धारा 
     तो उजड़़े चमन खिलायेगी 
     हर मरुथल को हरियायेगी 
      यह धरती मेरे देश की ।
अब खेतों में कुछ हलचल है 
अब लोहे में कुछ धड़कन है 
सीने में जलते अंगारे 
अब बाहों में कुछ तड़पन है ।
      है जाग उठी करवट लेकर अब आज़ादी की देवी 
      सपनों के महल उठायेगी 
      हर घर को स्वर्ग बनायेगी 
     यह धरती मेरे देश की ।
कुछ रूप निखरता दिन पर दिन 
चेहरों पर कुछ अरुणाई है 
कण कण सूरज के दर्पण सा 
माटी ने ली अँगड़ाई है ।
      अब तो रोके से नहीं रुकेगी जनगंगा की धारा 
       चट्टानों से टकरायेगी 
      शोषण के दुर्ग ढहाएगी 
      यह धरती मेरे देश की ।  यह धरती मेरे देश की  ।

SP Sudhesh's profile photo

 सुधेश 

अब समय है एक विराम का, मिलती हूँ एक छोटे से विराम के बाद......

3 comments:

  1. उस का ही आँचल फटा हुआ
    उस की ही आँखों में सावन ।
    यह धरती मेरे देश की । यह धरती मेरे देश की ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. ब्लॉगोत्सव के माधयम से सुधेश जी को पढ़ना बहुत अच्छा लगा.

    उत्तर देंहटाएं
  3. उत्सव चलता रहे इसी तरह ....................

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top