आतंक पढाये मुल्ला , चले कत्ल की राह ।

जेहादी के नाम पे , पाक हुआ गुमराह । ।

बारूदों के ढेर पे , बैठा पाकिस्तान ।

खुदा करे ऐसा न हो, मिट जाए पहचान । ।

पूरी दुनिया कर रही, थू-थू आतंकवाद ।

पर कैसा यह पाक है, बना हुआ अपवाद । ।

पाक से चलकर आयी , कैसी है यह धुंध।

लाल शहर को कर गया ,चहरे कर गये कुंद । ।

तन उजला मन गंदा है , नेता नमकहराम ।

संसद में मधुमास करे , बिन गुठली बिन आम । ।

() रवीन्द्र प्रभात

10 comments:

  1. wah wah prabhat ji kya khoob likha hai "atank .....................rah. bahut umda , badhai.

    yogesh swapn

    उत्तर देंहटाएं
  2. "पूरी दुनिया कर रही, थू-थू आतंकवाद ।
    पर कैसा यह पाक है, बना हुआ अपवाद । ।
    बारूदों के ढेर पे , बैठा पाकिस्तान । खुदा करे ऐसा न हो, मिट जाए पहचान । । "


    बहुत सही लिखा है आपने , कही ऐसा न हो की आने वाले समय में पाकिस्तान अपनी पहचान ही न खो दे ....सार्थक दोहों के लिए आभार !
    एक बात और कहूं - उस पत्रकार ने तो बूस साहब को अपने पाँव के जूते मारे , आपने तो पाक प्रायोजित आतंकवाद को मजबूर कर दिया सोचने पर ...अब वह ख़ुद अपना जूता उतारकर अपने सर पर दे मारेगा !

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपने तो पूरे हिन्दुस्तान की संवेदनाओं को पाँच दोहों में समेट दिया , सभी दोहे सुंदर हैं और पाकिस्तान के सच को उजागर कर रहे हैं !

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर और सामयिक रचना है..बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत बढिया व सामयिक रचना है।बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  6. वाह ! एकदम सटीक कमाल का लिखा है आपने.
    सुंदर दोहे के लिए आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  7. कविता के जरिए आतंकवाद और पाकिस्तान के उपर आपने जो लिखा है वह स्वागत योग्य है । आपने दिल की बात कह दी है । मै इसे एक लेख के आधार पर लिखा हूं । जरूर पढिए । मै भी मुम्बई के ददॆ को सहलाने का प्रयास किया है

    उत्तर देंहटाएं
  8. abhivyakti vahee jo dil ko chhoo jaaye, achchhaa lagaa...!

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top