रैंकिंग संवंधी विश्लेषण से पूर्व आईये एक ऐसे ब्लोगर के जज्बे को सलाम करते हैं जिसने सिहरन , संदेह और भय-भ्रम-भ्रान्ति की दुनिया का कच्चा चिट्ठा खोलने का साहस किया है अपने ब्लॉग बीहड़ के माध्यम से । इस ब्लॉग को लाने के पीछे श्री योगेश जादो का मुख्य उद्देश्य रहा है बीहड़ से जुड़े प्रमाणिकता को बिना किसी लग-लपेट के प्रस्तुत करना और इस अद्भुत जमीन के बारे में जानकारी देना । योगेश कहते हैं कि- "यहाँ की जमीन सभी को लुभाती है , रिझाती है और डराती है । इस ब्लॉग पर डाकुओं के अनेक गैंग की चर्चा पूरी निर्भीकता के साथ हुयी है , मसलन ढीमर गैंग, राम सहाय ,कमल गुर्जर, जगन गुर्जर , जे जे आदि ।


इस ब्लॉग को जितना पढ़िए उतनी ही नई जानकारी मिलती है । ब्लोगर का दायरा केवल उत्तर या मध्य प्रदेश ही नही है , अपितु राजस्थान तक फैला हुआ इलाका है । इसमें गबर सिंह की तरह फिल्मी ड्रामा प्रस्तुत नही होता , इसमें प्रस्तुत होता है रोम-रोम में सिहरन पैदा कराने वाली सच्ची और प्रमाणिक घटनाएँ ....



यह ब्लॉग अप्रैल-२००८ में हिन्दी ब्लॉग जगत का हिस्सा बना और महज डेढ़ वर्ष के भीतर दहशत की दुनिया के कई अजीबो-गरिब घटनाओं से रूबरू कराते हुए बीहड़ की सच्चाई को सामने रखने में सफलता पाई है ...वर्ष-२००९ में इस पर केवल २७ पोस्ट डाले गए हैं , किंतु सभी पोस्ट अपने-आप में महत्वपूर्ण है । योगेश को मेरी ढेरों शुभकामनाएं ....!

आईये अब पिछली चर्चा से आगे बढ़ते हैं । पिछले दो पोस्ट में चिट्ठाजगत की रैंकिंग , विभिन्न एग्रीगेटरों के द्वारा प्रस्तुत पेज रैंक और ब्लॉग वाणी के माध्यम से ज्यादा पढ़े जाने वाले पोस्ट की चर्चा हुयी ।

इसी प्रकार जब हम पिछले सभी ब्लॉग की टेक्नोरैटी रैंकिंग निकालने का प्रयास करते हैं तो वर्त्तमान समय में जो स्थिति बन रही है उसके अनुसार हिन्दी ब्लॉग टिप्स आगे है और दूसरे स्थान पर उड़न तश्तरी काबिज है । आगे के क्रम में क्रमश: मोहल्ला ...कस्बा .....सारथी .....मानसिक हलचल ......फुरसतिया .....शब्दों का सफर .....रेडियो वाणी ....रवि रतलामी का ब्लॉग ....कबाड़खाना ......चोखेरबाली ......भड़ास ....अजदक ....टूटी हुयी बिखरी हुयी ......महाजाल पर सुरेश चिपलूनकर .....शिव कुमार मिश्र और ज्ञान दत्त पांडे का ब्लॉग .....अनवरत ......प्रत्यक्षा ......जोग लिखी ......आवाज़ ....आलोक पुराणिक की अगड़म-बगड़म ....अमीर धरती गरीब लोग ......उन्मुक्त .....एक शाम मेरे नाम .....रचनाकार .....दीपक भारतदीप का चिंतन ....समाजवादी जन परिषद् ......हिंद युग्म ....एको Sहम .....आवारा बंजारा .....दीपक भारतदीप की शब्द पत्रिका .....दीपक भारतदीप की शब्दलेख पत्रिका .....नौ दो ग्यारह .....तीसरा खंबा आदि ब्लॉग है ।

इसी प्रकार जब हम अलेक्सा की रैंकिंग निकालते हैं तो पहले स्थान पर आता है जोग लिखी और दूसरे स्थान पर हिंद युग्म । क्रमश: आगे इस प्रकार है - आवाज़...नौ दो ग्यारह .....चिट्ठा चर्चा ....हिन्दी ब्लॉग टिप्स .....ताऊ डोट इन ....रवि रतलामी का हिन्दी ब्लॉग ....भड़ास .....सारथी ....महाजाल पर सुरेश चिपलूनकर .....आलोक पुराणिक की अगड़म-बगड़म ......मेरा पन्ना .....रचनाकार .....रेडियो वाणी ....मोहल्ला ...फुरसतिया ....शब्दों का सफर .....उड़न तश्तरी .....कबाड़खाना ....मानसिक हलचल ....घुघूती बासूती .......नारी .....अमीर धरती गरीब लोग ....तीसरा खंबा ....अनबरत.....शिव कुमार मिश्र और ज्ञान दत्त का हिन्दी ब्लॉग ....उन्मुक्त .... प्रत्यक्षा ....एक शाम मेरे नाम .....अजदक .....कस्बा ....चोखेरबाली .....एकोS हम .....समाजवादी जन परिषद् ......दीपक भारतदीप की शब्द लेख पत्रिका .....दीपक भारतदीप की शब्द पत्रिका ....टूटी हुयी बिखरी हुयी ...आवारा बंजारा आदि ।

जब हम वर्ष-२००९ में ब्लोगवाणी के अंतर्गत सर्वाधिक पसंदीदा पोस्ट का अवलोकन करते हैं तो पहले स्थान पर महाशक्ति ....और दूसरे स्थान पर कबाड़खाना है ...! इन दोनों चिट्ठों के पसंदीदा पोस्ट का क्रमांक क्रमश: ९९ और ९२ तक पहुँचा है । इसी प्रकार आगे हैं -अपना घर ....महाजाल पर सुरेश चिपलूनकर .....विरोध ...इयता .... ताऊ डोट इन ....आज की आवाज़ ....धान के देश में ....चर्चा हिन्दी चिट्ठों की ....विनय पत्रिका ......कुमायूनी चेली ....लपूझन्ना ......घुघूती बासूती ......मसिजीवी ....मेरी कलम मेरी अभिव्यक्ति ......मीडिया मर्ग ...एक जिद्दी धुन...अमीर धरती गरीब लोग.....दरअसल.....साहित्य शिल्पी ....प्रकाश पाखी ...मेरी दुनिया ....स्वप्न लोक ....हिदी ब्लॉग टिप्स ...नारी ...शिव कुमार मिश्र और ज्ञान दत्त पण्डे का ब्लॉग....अल्पना वर्मा की कवितायें ...उड़न तश्तरी ....दिल की बात ...हमारा हिन्दुस्तान ...कुछ इधर की कुछ उधर की ....पल ले इक रोग नादाँ जिंदगी के वास्ते ....नुक्कड़ .....ब्लॉग बुखार ....अलग सा ...अनवरत ......विस्फोट डोट कॉम ....खजाना .....ज्योतिष की सार्थकता.....आदि ।

चर्चा अभी जारी है ...मिलते हैं एक छोटे से विराम के बाद ....!

13 comments:

  1. बीहड़ शब्द सुनने में ही व्यक्ति खौफजदा हो जाता है ...इस ब्लॉग को पढ़ने के बाद क्या स्थिति होती होगी ? वैसे यह ब्लॉग पढ़ने लायक है रहस्य और रोमांच के लिए,इस श्रंखला में काफी जानकारी दे दी है आपने, आपका आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  2. मैने भी कभी बीहड़ नहीं पढी , विश्लेषण के बहाने
    लिंक मिल गया है , अब जरूर पढूंगी !

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुआयामी विश्लेषण । चिट्ठों का ऐसा विश्लेषण कम ही देखा है । आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. मेहनती विश्लेषण!! जारी रहिये.

    उत्तर देंहटाएं
  5. आप ने बीहड़ पर पहुँचाया। महत्वपूर्ण ब्लाग है। यह आप की समीक्षा का फल है कि मैं वहाँ पहुँच सका। धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  6. सचमुच ऐसा विश्लेषण मैंने अभीतक नहीं देखा , आपने तो समीक्षा की पोटली ही खोल दी ....वैसे बीहड़ में पहुँचना मेरे लिए रोमांच से कम नहीं था ....आपका आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  7. प्रिय रवीन्द्र, जिस मनोयोग, समर्पण, एवं विस्तार से तुम ने ये 13 विश्लेषण प्रस्तुत किये हैं वह हम सब के लिये एक प्रोत्साहन एवं इस तरह से मेहनत करने के लिये एक चुनौती है. आभार!

    जैसा मैं इसके पहले कह चुका हूँ, तुम्हारी कलम में एक विशेष शक्ति है.

    सस्नेह -- शास्त्री

    उत्तर देंहटाएं
  8. वर्ष भर की गतिविधियों पर नज़र रखना और उसका सूक्ष्म विश्लेषण करते हुए प्रस्तुत करना कफी दुरूह कार्य है , जो आपने कर दिखाया है !!!
    आभार !!!

    उत्तर देंहटाएं
  9. आपका काम बहुत मेहनती है, इस प्रकार चिट्ठो को मूल्‍यंकन करना वकई बहुत कठिन काम है। कुछ अच्‍छे चिट्ठे छूट भी जाते है क्‍योकि जो जितना लोकप्रिय नही होता है किन्‍तु उनकी गूगल पेजरैंक बेहरत होती है, ऐसा आप जबलपुर ब्रिगेड पर देख सकते है उसकी पेज रैंक 4 है।

    उत्तर देंहटाएं
  10. अरे! तो मेरा ब्लौग भी शामिल है इस रैंकिंग में?

    बीहड़ से परिचय करवाने का शुक्रिया रविन्द्र जी। मार्क कर लिया है नियमित रूप से घूमने -फिरने के लिये।

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top