मैं हैरान हूँ, इस परिकल्पना का जादू हर जगह है, आई हैं तज़ाकिस्तान से देखिये नोज़िया करोमतुल्लो .... तो इनकी आवाज़ का जादू परिकल्पना ब्लॉग उत्सव -
के नाम .............









देश, विदेश .... मेरा शहर, तेरा शहर सब रंग गए हैं उत्सवी रंग में . सबके होठों पर गीत मचल उठे हैं ... कुछ इस तरह....यहाँ किलिक करें

8 comments:

  1. आईये सुनें ... अमृत वाणी ।

    आचार्य जी

    उत्तर देंहटाएं
  2. एक अहिंदी भाषी सुदूर देशवासिनी से हिन्दी गायन वह भी भारतीय शैली में सुन कर मन प्रसन्न हुआ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन कर मन प्रसन्न हुआ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. क्या समा बाँधा है,अच्छा लगा सुन कर.

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत खूब..विदेश मे अपने देश के प्रति चाहत देख कर आनन्द आता है..

    उत्तर देंहटाएं
  6. आदरणीय रश्मि जी,
    आपने सबकुछ इतनी खूबसूरती से प्रस्तुत कर दिया कि हैरान हूँ....सचमुच बहुत ही मनभावन लग रहा है...
    प्यारी खुशबू को भी ढेर सारा प्यार और शाबाशी...उसने संयोजन का बहुत ही अच्छा काम किया है.....
    हृदय से धन्यवाद...!!

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top