हिंदी ब्लॉगजगत के पास एक ऐसी उत्कृष्ट लेखिका हैं , जिनकी कथा-कहानियों में परिस्थितियों से उत्पन्न विविध प्रकार के भौन्जालों के बीच विवशताभरी छटपटाहट का खुला दस्तावेज सम सम्मुख आता है , साथ ही जन-समुदाय के शोषण, कलह, ईर्ष्या, वर्ण-व्यवस्था से ग्रस्त मन-मानस की कुंठाओं एवं संत्रासों का सहज उदघाटन हो जाता है ।
जानते हैं कौन है वो?
वो हैं निर्मला कपिला ....
विस्तृत जानकारी के लिए यहाँ किलिक करें

23 comments:

  1. बहुत बहुत बधाई सही है यह निर्मला जी की कहानियाँ दिल को छु लेती है

    उत्तर देंहटाएं
  2. निर्मला जी को बहुत-बहुत बधाईयाँ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. Nirmala jee, ye samman aap ko aur bahut kuchh dene kee takat de. hamen aap se nirantar naye ka intjaar rahega.

    उत्तर देंहटाएं
  4. निर्मला जी बहुत-बहुत बधाई .....!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. निर्मला जी बहुत-बहुत बधाईयां

    उत्तर देंहटाएं
  6. रविन्द्र जी और परिकल्पना टीम का बहुत बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  7. निर्मला जी बहुत-बहुत बधाईयां

    उत्तर देंहटाएं
  8. निर्मला जी को बहुत-बहुत बधाईयाँ।

    उत्तर देंहटाएं
  9. निर्मला जी को बहुत-बहुत बधाईयाँ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. निर्मला जी को बहुत बहुत बधाईयाँ!

    उत्तर देंहटाएं
  11. इस सम्मान हेतु निर्मला जी को हार्दिक बधाई।
    सामाजिक सरोकार वाली उनकी कहानियां भाव-प्रणव हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत बहुत बधाई ...
    इस सम्मान के लिये ...

    उत्तर देंहटाएं
  13. निर्मला कपिला जी को बहुत बहुत बधाई.

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top