एक ऐसी लेखिका जो पौराणिक साहित्यिक जमीन पर नयी साहित्यिक मूल्यों का निर्माण करती है , परंपरा और आधुनिकता के बीच से अपने आचरण को तय करने वाले सरोकारों का चुनाव करती हैं .....उनका मानना है कि परिस्थितियाँ अजीव तौर पर बिदंबनापूर्ण परिदृश्य सामने ला रही है साहित्य के क्षेत्र में इसलिए हमें नए सकारात्मक वातावरण का निर्माण करना है .....जानते हैं कौन हैं वो ?
वो हैं कविवर पन्त की मानसपुत्री श्रीमती सरस्वती प्रसाद
ब्लोगोत्सव की टीम ने इन्हें वर्ष की श्रेष्ठ लेखिका (संस्मरण ) का खिताब देते हुए इन्हें सम्मानित करने का निर्णय लिया है ....!
विस्तृत जानकारी हेतु यहाँ किलिक करें

25 comments:

  1. सरस्वती जी को बहुत बहुत बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  2. सरस्वती जी को बहुत बहुत बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  3. सरस्वती जी बधाई एवं ढेर सारी शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  4. कविवर पन्त की मानसपुत्री श्रीमती सरस्वती प्रसाद को ब्लोगोत्सव श्रेष्ठ लेखिका (संस्मरण ) ke खिताब की हार्दिक बधाइयाँ ......!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. सरस्वती जी को बहुत बहुत बधाई ..

    उत्तर देंहटाएं
  6. सरस्वती जी को बहुत बहुत बधाई ...!

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत बहुत बधाई श्रीमती सरस्वती प्रसाद जी को!

    उत्तर देंहटाएं
  8. bahut bahut badhai Saraswatijee ko. Saraswati to shreshth lekhikaa hongee hee.

    उत्तर देंहटाएं
  9. achchee lekhikaaye sadaiv sammaanit honee chahiye badhai|

    उत्तर देंहटाएं
  10. काव्य विश्रुत सरस्वती स्वरूपा सरस्वती जी को बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत बहुत बधाई श्रीमती सरस्वती प्रसाद जी को

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top