कहा गया है- " वाक्यं रसात्मकं काव्यं " यानी रसों से सरावोर वाक्य ही काव्य है ।
एक ऐसा प्रवासी भारतीय कवि जिनकी कविता तो आकर्षित करती ही है , आवाज़ भी कम आकर्षित नहीं करती ।
उस आवाज़ में यदि कविता रूपी महुए का स्वाद आपने एक बार चख लिया तो समझिये हमेशा के लिए आप उनकी आवाज़ में आबद्ध हो जायेंगे ।
जानते हैं कौन हैं वो ?
वो हैं श्री अनुराग शर्मा
जिन्हें ब्लोगोत्सव की टीम ने ब्लोगोत्सव पर प्रसारित उनकी कविता "गड़बड़झाला" को आधार बनाते हुए उन्हें वर्ष के श्रेष्ठ कवि (कविता पाठ ) का अलंकरण देते हुए लोकसंघर्ष परिकल्पना सम्मान से सम्मानित करने का निर्णय लिया है ।

20 comments:

  1. अनुराग जी को हार्दिक बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  2. अनुराग जी को बहुत बहुत बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  3. अनुराग भाई को ढेर सारी शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  4. अनुराग जी को बहुत-बहुत बधाई के साथ शुभकामनायें ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. अनुराग जी को बहुत बहुत बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  6. अनुराग जी को बहुत बहुत बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  7. अनुराग जी को बहुत-बहुत बधाई के साथ शुभकामनायें ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. अनुराग भैया को बहुत बहुत बधाई.. उपयुक्त चयन.. आपका आभार..

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत बहुत बधाई एवं हार्दिक शुभकामनाएँ..

    उत्तर देंहटाएं
  10. आप सभी का हार्दिक धन्यवाद। रवींद्र जी, सुमन जी और ब्लॉगोत्सव टीम का आभार।

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top